बीकानेर में कलक्‍टर ने कहा- मोबाइल टावर लगाने से पहले अधिकारियों को देना होगा इन बातों पर ध्‍यान…

Namit Mehta Collector Bikaner
Namit Mehta Collector Bikaner

बीकानेर Abhayindia.com जिला कलक्टर नमित मेहता की अध्यक्षता में जिला स्तरीय टेलीकॉम समिति की कलेक्ट्रेट सभागार में सोमवार को पहली बैठक हुई। बैठक में मेहता ने उप निदेशक (क्षेत्रीय) स्थानीय निकाय ए. एच. गौरी, अतिरिक्त जिला कलक्टर (शहर) अरूण प्रकाश शर्मा, मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद ओम प्रकाश, नगर निगम आयुक्त पंकज शर्मा, यूआईटी सचिव नरेन्द्र सिंह राजपुरोहित एवं टेलीकॉम कम्पनियों के पदाधिकारियों के साथ जिले में मोबाइल टावर संबंधी जन शिकायतों, लगाने की अनुमति, नवीनीकरण संबंधी आवेदनों का निस्तारण, अनुमति की अस्वीकृति व शिकायतों तथा अनधिकृत टावरों की जब्ती, हटाने संबंधी शिकायतों का निस्तारण आदि पर विस्तार से चर्चा कर जानकारी ली।

जिला कलक्टर ने मेहता ने कहा कि यह समिति की पहली बैठक है। टॉवर की एनओसी जारी करने से पहले संबंधित संस्था, विभाग मौका स्थल के निवासियों, जनप्रतिनिधियों को सुनकर टॉवर लगाने की जगह का चयन किया जाए। साथ ही टॉवर लगाने वाली कम्पनी को भी रेडियेशन के संबंध में क्षेत्र के लोगांे की आशंकाएं दूर करनी चाहिए। उन्होंने डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकम्यूनिकेशन की टीम द्वारा रूटीन सर्वें में रेडिएशन की जांच करने के निर्देश दिए। उन्होंने बीएसएनएल के प्रतिनिधि को निर्देश दिए कि टीओटी की टीम के निरीक्षण के दौरान संबंधित विभागों को जानकारी दी जाए। उन्होंने संबंधित विभागों को अपने क्षेत्राधिकार में एनओसी जारी करने के निर्देश दिए। उन्होंने सार्वजनिक निर्माण विभाग की रोड आदि पर टावर लगाने की एनओसी जारी करने से पहले उससे एनओसी लेने के निर्देश दिए।

जिला कलक्टर ने टेलीकॉम कंपनी के प्रतिनिधियों से कहा कि पूर्व में लगाए गए टावर एवं नए स्थलों पर लगाए जाने वाले टावरों पर तीन से चार हाई मास्क लाइट अनिवार्य रूप से लगाए। उन्होंने प्राप्त परिवेदनाओं के संबंध में मौका रिपोर्ट बनाने, शिकायत करने वाले जन प्रतिनिधियों को आगामी बैठक में बुलाने के निर्देश दिए।

बैठक में बताया कि इस संबंध में नगर निगम द्वारा 6 परिवेदनाएं प्रस्तुत की गई। जिसमें एनओसी जारी करने के बाद परिवेदनाएं/आपति प्राप्त हुई। टावर कम्पनी के प्रतिनिधि ने बताया कि आचार्य महाप्रज्ञ चौक में टावर लगाने के लिए कम्पनी को नगर निगम द्वारा अनुमति दी गई है, लेकिन आमजन एवं जनप्रतिनिधियों द्वारा टावर नहीं लगाने दिया जा रहा है। इसी प्रकार से निगम से उन्‍हें पांच आपत्तियां और मिली है, जिसमें रेडिएशन, धार्मिक गतिविधियां, स्कूल आदि का उल्लेख करते हुए स्थानीय लोगों और जनप्रतिनिधियों द्वारा आपति करते हुए टावर नहीं लगाने दिया जा रहा है। इसके अलावा ऐसा ही मामला नोखा पालिका क्षेत्र में है।

बैठक में निगम आयुक्त पंकज शर्मा ने ने बताया कि निगम ने नियमानुसार कम्पनी को एनओसी जारी की है, किन्तु स्थानीय निवासियों और जनप्रतिनिधियों द्वारा रेडिएशन, धार्मिक गतिविधियों व यातायात के परिपेक्ष्य में आपत्तियां निगम को दी है।

राजस्थान फाउंडेशन ने शुरू की अनूठी वर्चुअल श्रंखला “मिलिए सरकार से”, प्रवासी कर पाएंगे सरकार के प्रतिनिधियों से वार्तालाप

जयपुर Abhayindia.com राजस्थान फाउंडेशन ने “मिलिए सरकार से” एक अनूठी वर्चुअल श्रंखला की शुरुआत की है, जिससे हमारे देश के विभिन्न राज्यों और विदेशों में बसे प्रवासी राजस्थानी राज्य सरकार के मंत्रियों और अन्य प्रतिनिधियों से सीधी वार्तालाप कर पाएंगे। राज्य सरकार के प्रतिनिधियों के साथ सीधी वार्तालाप की इस श्रंखला “मिलिए सरकार से” की पहली कड़ी में सरकार की तरफ से प्रवासियों से वार्तालाप करने के लिए राज्य के नगरीय विकास एवं आवासीय मंत्री शांति धारीवाल ने वेबीनार के माध्यम से प्रवासी राजस्थानियों को राज्य सरकार के विकास कार्यों और भविष्य की योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने राज्य में चल रही अनेक जन कल्याणकारी और विकास योजनाओं से प्रवासियों को अवगत करवाया।

धारीवाल ने कहा कि राजधानी जयपुर के एसएमएस अस्पताल में 1200 बेड का आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित आईपीडी टावर बनने जा रहा है जहां हेलीपैड की भी सुविधा दी जाएगी जिससे प्रदेश के चिकित्सा के क्षेत्र को प्रगति मिल सकेगी उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का प्रयास है कि राजस्थान को पूर्ण रूप से समृद्ध और शक्तिशाली प्रदेश बनाया जा सके। धारीवाल ने सभी प्रवासी राजस्थानियों को साधुवाद देते हुए कहा कि प्रवासी राजस्थानियों को इस प्रकार अपने प्रदेश से जुड़े देख कर बहुत खुशी की अनुभूति हो रही है उन्होंने कहा कि राजस्थान फाउंडेशन द्वारा आयोजित यह कार्यक्रम मुख्यमंत्री की उस सोच को और आगे ले जाने वाला है जिससे प्रवासियों को अपने प्रदेश से जोड़ने के मिशन को मजबूती मिलेगी उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की राजस्थान फाउंडेशन के गठन करने के पीछे यही सोच थी कैसे राजस्थानी समुदाय के लोगों को एक साथ एक परिवार के रूप में जोड़ा जाए। उन्होंने कहा कि फाउंडेशन के आयुक्त धीरज श्रीवास्तव जैसे निपुण, कर्मठ, कर्तव्यनिष्ठ, सकारात्मक सोच और अनुभवी अधिकारी की अगुवाई में राजस्थान फाउंडेशन जिस तरह से प्रवासियों को अपनी मिट्टी से जोड़ने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है यह एक बहुत सराहनीय का कार्य है।

कार्यक्रम के संचालन के दौरान फाउंडेशन के कमिश्नर धीरज श्रीवास्तव ने कहा कि “मिलिए सरकार से” कार्यक्रम अपने आप में प्रबलशाली प्रयास है जो हमारे राजस्थानी प्रवासियों को सीधे अपनी सरकार से जुड़ने का मौका देगा। उन्होंने कहा कि प्रवासियों को अपने मिट्टी से निकट लाने के ऎसे कार्यक्रमों से न केवल हमारे प्रवासियों को अपने प्रदेश में हो रहे विकास कार्यों को करीब से जानने का मौका मिलेगा बल्कि राजस्थान में जो निवेश के अवसर सरकार द्वारा समय-समय पर खोले जा रहे हैं उनमें भी प्रवासियों के योगदान की रूपरेखा तैयार हो सकेगी।

“मिलिए सरकार से” कार्यक्रम की इस पहली कड़ी में मंत्री धारीवाल के समक्ष देश और विदेश से जुड़े अनेक प्रवासियों ने अपने विचार रखे, जिनमें यूएसए से डॉक्टर जयवीर राठौड़, मुंबई से डॉक्टर अनिल बगरिया, नैरोबी केन्या से सोनवीर सिंह, कोलकाता से एचपी बुधिया, जर्मनी से अर्पित जैन, आयरलैंड से बाबूलाल यादव, दुबई से डॉ. मयंक वत्स, बहरीन से रमेश पाटीदार, ऑस्ट्रेलिया से कमल भूतड़ा, यूएसए से राज नाथावत आदि ने राजस्थान में चिकित्सा, स्वास्थ्य, शिक्षा, रोड तथा आर्थिक और सामाजिक विकास के विभिन्न पहलुओं पर अपने विचार साझा किए। सभी प्रवासियों ने एक स्वर में राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त श्रीवास्तव की इस पहल का स्वागत करते हुए कहा कि ऎसे कार्यक्रमों से देश और दुनिया में बसे हुए प्रवासियों को गर्व की अनुभूति होती है तथा अपने प्रदेश के लिए हर संभव सहयोग के संकल्प प्रबल होते हैं।

आयुक्त ने कोरोना महामारी से निपटने में प्रवासी राजस्थानियों की भूमिका को रेखांकित करते हुए कहा कि प्रवासियों द्वारा प्रदेश में ऑक्सीजन प्लांट लगवाने, लिक्विड ऑक्सीजन भिजवाने, राजस्थान फाउंडेशन के माध्यम से हर तरह का सहयोग राज्य सरकार को प्रदान किया गया तथा ऎसे कठिन समय में सभी प्रवासी राज्य सरकार के साथ खड़े नजर आए यह प्रवासियों का अपने प्रदेश के लिए अटूट प्यार का प्रमाण है।

वेबिनार में यूडीएच के सलाहकार जीएस संधू, प्रमुख शासन सचिव, यूडीएच कुंजीलाल मीना, सचिव स्वायत्त शासन भवानी सिंह देथा, आयुक्त जेडीए गौरव गोयल ने भी विभाग की महत्वपूर्ण योजनाओं और कार्यक्रमों की जानकारी दी, साथ ही प्रवासियों के सवालों का भी जवाब दिया।

बीकानेर क्राइम : कोटगेट के पास दो पक्षों में तलवारबाजी, एक गंभीर जख्‍मी, क्रॉस मामले दर्ज

बीकानेर : बहाने बनाकर बेच रहे थे नकली मोबाइल, पुलिस ने तीन जनों को धर दबोचा

पायलट विरोधी निर्दलीय विधायकों के इलाके में हार गई कांग्रेस

राजनीतिक जमीन तलाशने राजस्‍थान आए ओवेसी, इनसे लिया फीडबैक…

बीकानेर में महापौर के पति की दबंगई, बोले- फाइल के हाथ लगाया तो हाथ पैर तोड़ देंगे…!

भाजपा नेताओं ने बीकेईएसएल के सीओओ से कहा- 85 प्रतिशत एरिया में बिजली चोरी की भरपाई आम उपभोक्‍ता से क्‍यों?

विधायक सिद्धि कुमारी ने एसई से कहा- सात दिनों में मिल जाना चाहिए पानी…

गहलोत सरकार ने “प्रशासन शहरों के संग” अभियान से पहले दी ये छूट…

अचल संपत्तियों को लेकर गहलोत सरकार ने कर्मचारियों को दिया एक और मौका

पानी-बिजली के मामले में ऊर्जा मंत्री डॉ. कल्‍ला पूरी तरह फेल : सुमित गोदारा

पायलट के जन्‍म दिन पर शक्ति प्रदर्शन की तैयारी, हर जिले में…

देवकिशन, किरण और सत्‍यदेव को मिलेंगे साहित्‍य पुरस्‍कार

सीएम गहलोत को सता रही यह चिंता, अधिकारियों को दिए निर्देश…

राजस्‍थान : टीम वसुंधरा राजे का दफ्तर खुला, और तेज हो गई ये चर्चाएं…

राजस्‍थान : मंत्रिमंडल विस्‍तार पर फिर लगा ब्रेक, अब आई ये नई तारीख…