रेलवे में निजीकरण के खिलाफ फूटा आक्रोश, निकाला मशाल जुलूस

बीकानेर Abhayindia.com केन्द्र सरकार रेल की कमान निजी हाथों में सौंपने तैयारी में जुटी है, कई निजी कंपनियां इसके लिए आगे आने की मंशा रखती है। सरकार की इस योजना से रेल कर्मचारियों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है।

निकाला मशाल जुलूस

रेल कर्मचारी संगठन निजीकरण के खिलाफ लामबंद हो रहे हैं। ऑल इंडिया रेलवे मैन्स फैडरेशन के देशव्यापी आह्वान पर रेल में निजीकरण के खिलाफ जन-जागरण विरोध सप्ताह मनाया जा रहा है। बीकानेर में भी नॉर्थ वेस्टर्न रेलवे एम्पलाईज यूनियन के तत्वावधान में मशाल जुलूस निकाला गया।

सहायक मंडल मंत्री मनोज के. बिस्सा के अनुसार लालगढ ब्रांच यूनियन कार्यालय से शुरू होकर जुलूस रेलवे कॉलोनी, रेलवे अस्पताल, लालगढ़ स्टेशन से होते हुए वापस लालगढ़ स्थित यूनियन ऑफिस पहुंचा। मंडल मंत्री अनिल व्यास के निर्देशन में बीकानेर मण्डल के लगभग 125 स्टेशनों पर मशाल जुलूस निकाला गया।

निजी उद्यमों को मिलेगा फायदा…

कर्मचारियों को संबोधित करते हुए सहायक मंडल मंत्री प्रताप सिंह ने कहा रेलवे के निजीकरण करने से इसका सीधा फायदा निजी उद्यमों मिलेगा। रेलवे में लाभ कमाने का सबसे सरल तरीका किराए में वृद्धि है और यदि ऐसा होता है तो इसका सबसे ज्यादा असर आम नागरिकों पर पड़ेगा ।

किया जाएगा ट्वीट

दिनेश सिंह ने कहा कि निजीकरण के खिलाफ चल रही मुहिम में सभी रेलकर्मी, रोजगार की प्रतीक्षा कर रहे युवा, ट्रेन टिकटों में रियायत के हकदार लोगों को भी आगे आना पड़ेगा। इस दौरान शाखा सचिव बृजेश ओझा, गणेश वशिष्ठ के अनुसार जन जागरण सप्ताह के तहत 19 सितंबर को सुबह 9 से रात 9 बजे तक प्रधानमंत्री और रेल मंत्री को निजीकरण के विरोध में ट्वीट किया जाएगा।

यह भी हुए शामिल

जुलूस में विजय श्रीमाली,मुश्ताक अली, पवन बीकानेरी, नवरतन शर्मा, लालचन्द इनखिया, रामहंस मीणा, किसन रामावत, राजु गुजर, महावीर गुजर, भरत ओझा, शशिकान्त परिहार, दयाशंकर, मोहम्मद सलीम कुरेशी,निरंजन आर्य, किशन गोदारा, नंदलाल सारण, जयदीप, राकेश कुमार कुमावत ने भाग लिया ।

SHARE
https://abhayindia.com/ बीकानेर की कला, संस्‍कृति, समाज, राजनीति, इतिहास, प्रशासन, धोरे, ऊंट, पर्यटन, तकनीकी विकास और आमजन के आवाज की सशक्‍त ऑनलाइन पहल। Contact us: abhayindia07@gmail.com : 9829217604