बीकानेर : गुमशुदा बालकों को मिला आश्रय, रेलवे चाइल्ड लाइन आया आगे…

बीकानेरabhayindia.com बिहार व गुजरात से बीकानेर पहुंचे बच्चों को रेलवे चाइल्ड लाइन ने आश्रय दिलाया है।

सोमवार को बीकानेर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या एक पर एक साथ तीन गुमशुदा बच्चे खड़े थे, जिन्हें बाल कल्याण समिति के आदेशानुसार आश्रय दिलवाया गया है। आरपीएफ पुलिस को कंट्रोल द्वारा सूचना मिली कि दादर ट्रेन में एक डरी सहमी नाबालिग बच्ची है, जो अकेली गुमशुदा लग रही है, इसके बाद आरपीएफ पुलिस एएसआई नन्द किशोर ने चाइल्ड लाईन समन्वयक सरिता राठौड़ से सम्पर्क कर बच्ची को अपने संरक्षण में लेकर चाइल्ड लाईन को सुपुर्द किया।

इसी तरह लालगढ़ रेलवे स्टेशन पर चाइल्ड लाईन टीम वालियंटर पिंकी जनागल व लक्ष्मी नारायण स्वामी को आऊटरिच के दौरान एक साथ दो गुमशुदा अकेले बच्चे मिले जिनको चाइल्ड लाईन कार्यालय लाकर रेलवे चाइल्ड लाईन काउंसलर परवीन चौहान ने पूछताछ की, काउंसिलिंग करने पर दादर ट्रेन में मिली सोलह वर्षीय बच्ची ने अपनी पहचान आमिना पुत्री शांति लाल निवासी- तहसील मीरसागर गुजरात की होना बताया और लालगढ़ रेलवे स्टेशन पर मिले दो गुमशुदा बच्चे नूर आलम पुत्र युसुफ उम्र- 12 साल एंव समीर पुत्र नूरबहार निवासी गांव बरभट्टा तहसील किशनगंज जिला पूर्णिया बिहार के रहने वाले बताया।

तीनो बच्चों को स्टेशन अधीक्षक जालम सिंह पुरोहित के दिशा निर्देशन में चाइल्ड लाईन टीम समन्वयक सरिता राठौड़ व टीम सदस्य विशाल सैनी द्वारा बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया गया, जहां से बाल कल्याण समिति ने बच्चों के परिवारजन से सम्पर्क होने तक, बच्ची आमिना को बालिका गृह में और दोनों बच्चे नूर आलम व समीर को बीकानेर के किशोर गृह में अस्थायी आश्रय दिलवाया।

रेलवे चाइल्ड लाईन के इस्माईल दाऊदी ने बताया कि बच्ची आमिना के परिवारजन से सम्पर्क कर लिया गया है, जिनके आगमन पर बच्ची को परिवार के सुपुर्द करवाने का प्रयास किया जाएगा।

गौरतलब है कि बीकानेर रेलवे स्टेशन पर उरमूल ट्रस्ट द्वारा संचालित चाइल्ड हेल्प डेस्क की ओर से सेकड़ो गुमशुदा बच्चों को उनके परिवार से मिलवा कर ऐतिहासिक सफलता का कीर्तिमान स्थापित किया है। टीम सदस्य ओम प्रकाश रामावत, सुनील विश्नोई और मुकेश सिंह राजपुरोहित का सहयोग रहा।