युद्धाभ्यास वायुशक्ति-2019 : रेत के समंदर में दुश्मन को दिखाई ताकत

पोकरण। पुलवामा हमले के दो दिन बाद भारतीय वायुसेना ने शनिवार को पाकिस्तान सीमा से सटते राजस्थान के रेगिस्तान में अपनी ताकत दिखाई। यह अवसर था युद्धाभ्यास वायुशक्ति-2019 के समापन का। इसमें वायुसेवा के 140 एयरक्राफ्ट और अटैक हेलीकॉप्टर शामिल हुए। फाइटर पायलटों ने पोकरण फायरिंग रेंज में दुश्मन के काल्पनिक ठिकानों पर सटीक निशाना साधकर उन्हें ध्वस्त किया। आपको बता दें कि वायुसेना ऐसा अभ्यास हर तीन साल में करती है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वायुसेवा चीफ बी. एस. धनोआ ने कहा है कि सरकार जैसा तय करे। वायुसेना दिन, रात और हर मौसम की विपरीत परिस्थितियों में किसी भी क्षेत्र में जाकर हमले के लिए तैयार है। दुश्मन हमसे सीधे युद्ध में कभी जीत नहीं सकता। हमारे पास स्ट्राइक पायलट हैं, जिनका निशाना बेहद सटीक है।

जानकारी में रहे कि पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर आतंकी हमले के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था कि सरकार ने सुरक्षा बलों को जवाबी कार्रवाई के लिए खुली छूट दे दी है। इसका वक्त, स्थान और समय सुरक्षा बल ही तय करेंगे। हालांकि, धनोआ ने भाषण में पुलवामा अटैक या पाकिस्तान का नाम नहीं लिया।

आतंकिस्तान के झंडे जलाए, श्रद्धांजलि सभाएं, यज्ञ भी…..देखें वीडियो

शहीदों के सम्मान में बंद रही दुकानें, पाकिस्तान के खिलाफ ऐसे निकाला गुस्सा