डाॅ. कृष्णा आचार्य को मुख्यमंत्री प्रदान करेंगे राजस्थानी महिला लेखन पुरस्कार

Dr. Krishna Acharya
Dr. Krishna Acharya

बीकानेर Abhayindia.com बीकानेर की लब्धप्रतिष्ठ लेखिका डाॅ. कृष्णा आचार्य को रविवार को जोधपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत माणक अलंकरण के तहत ‘राजस्थानी महिला लेखन’ का विशिष्ट पुरस्कार प्रदान करेंगे।

दैनिक जलतेदीप और राजस्थानी पत्रिका माणक के संपादक पदम मेहता ने बताया कि प्रतिवर्ष 12 दिसंबर को आयोजित होने वाला ‘माणक अलंकर समारोह’ कोरोना महामारी के कारण इस बार तीन वर्ष बाद आयोजित किया जा रहा है। इसमें तीनों वर्षों के सभी पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे। होटल चन्द्रा इम्पीरियल में रविवार को आयोजित होने वाले समारोह में राजस्थानी महिला लेखन का विशिष्ट पुरस्कार वर्ष 2021 के लिए डाॅ. कृष्णा आचार्य (बीकानेर), 2020 के लिए किरण राजपुरोहित ‘नितिला’ तथा वर्ष 2019 का महिला लेखन पुरस्कार चांदकौर जोशी (जोधपुर) को दिया जाएगा। पुरस्कार स्वरूप नकद राशि, प्रशस्ति-पत्र, शाॅल, श्रीफल एवं स्मृति-चिह्न प्रदान किया जाएगा।

आपको बता दें कि बीकानेर की डाॅ. कृष्णा आचार्य की राजस्थानी और हिन्दी में करीब दर्जन भर पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। इनमें राजस्थानी में ‘लाल चूड़ो’, ‘तिणकां री भींत’, ‘मांयली बात’ (कहानी-संग्रह), ‘काळजो कसमसावै’, ‘पांचाली’, कोरोना / पार थारी किंयां पड़सी (कविता-संग्रह), ‘नाहर सिरखी नारियां’, ‘राजस्थान रा रणबंका’, ‘भारत री लाखीणी नारियां’ (इतिहास कथाएं) प्रमुख हैं। इसी प्रकार हिन्दी में ‘वक्त की ठंडी रेत पर’, ‘स्वागत चांद तुम्हारा’, ‘कोरोना: लड़ना आर-पार है’ (कविता-संग्रह), ‘संवेदना जिंदा है’ (कहानी संग्रह), ‘किशोरों की दुनिया’ (विनिबंध) प्रकाशित हुए हैं।