प्रथम पूज्य गणपति पूजन से पहले करें ये काम…, समृद्धि, सौभाग्य और धन का होगा समावेश

Ganesh Dhora Bikaner
Ganesh Dhora Bikaner

सनातन धर्म के उपास्य देवों में श्रीगणपति भगवान का स्थान सर्वोपरि है। वे विघ्नों को हरने वाले और अग्रपूज्य है। गणेश चतुर्थी इस बार 31 अगस्त 2022 को है, जो अनंत चतुर्दसी के दिन भगवान गणेशजी की प्रतिमा का विसर्जन होता है। गणेशजी का जन्म भाद्रपद शुक्ल पक्ष चतुर्थी को मध्याह्न काल में, सोमवार, स्वाति नक्षत्र एवं सिंह लग्न में हुआ था। इस दिन घरों में, व्यापार में, बड़ी जगहों पर और हर घर के मुख्य दरवाजो पर गणेशजी का पूजन होता है। गणेशजी की उपासना करने से घर मे संपन्नता, समृद्धि, सौभाग्य और धन का समावेश होता है।

शास्त्रों में इस किये गए व्रत और पूजन का विशेष महत्व बतलाया गया है। किसी भी नए या अच्छे काम की शुरुआत करने से पहले भगवान गणेश का पूजन किया जाना शुभ माना जाता है। वैसे तो तो सभी जगह यह त्यौहार हर्षोल्लास के साथ मनाते है लेकिन महाराष्ट्र में यह बहुत प्रचलित है वहां इस दिन का इंतजार करते हैं। सभी पार्थिव गणेशजी की प्रतिमा को लाकर पूजन करते है लेकिन शास्त्रो में कई प्रकार से बने गणपति का उल्लेख मिलता है जिसमें गुड़ की प्रतिमा, हरिद्रा की प्रतिमा, गोधूमान्न और अन्यं। कुछ लोग गणेश चतुर्थी के अगले दिन गणेश की प्रतिमा का विसर्जन करते है और कुछ गणेश चतुर्थी के बाद 3, 5, 7, 10 वें और 11 वें दिन पर गणपति विसर्जन करते हैं।

गणेश चतुर्थी पूजा शुभ मुहूर्त व समय : वैसे तो दिनभर ही शुभ मुहूर्त है। गणेश पूजन का श्रेष्ठ समय मध्याह्नकाल माना गया है। गणेश पूजन श्रेष्ठ समय दोपहर 12 बजकर 8 मिनट से दोपहर 2 बजकर 25 मिनट तक सर्व श्रेष्ठ रहेगा।

भगवान गणपति का पूजन कैसे करें…

जो श्रद्धालु गणेशजी की मूर्ति को घर में या कही पर भी लेकर आते है तो सबसे पहले मूर्ति को कपड़े से ढककर लाना चाहिए। गणपति पूजन से पहले सूर्य भगवान का पूजन करना चाहिए। हमने देखा है कि सनातन धर्म किसी भी देवी देवताओं का पूजन हो तो सर्वप्रथम भगवान गणपति का पूजन करते है लेकिन पूजन में भगवान गणेशजी अगर प्रधान देवता हो तो उनसे पहले सूर्य भगवान का पूजन करना श्रेष्ठ माना जाता है। विद्वान ब्राह्मण के द्वारा विधि विधान से भगवान गणपति की प्राण प्रतिष्ठा कर, स्नान व पृथक पृथक द्रव्यों से अभिषेक आदि कर वस्त्र पहनाए, षोड्षोपचार पूजन करके साथ में पात्र पूजन आवरण सहित अङ्गों का पूजन अर्चन करें! नैवेद्य में विशेष रूप से मोदक, चूरमा, कवीठ, लाजा का भोग लगाएं साथ मे पान, सुपारी, फल, दक्षिणा लगाकर आरती और पुष्पांजलि करेंं।

जिनकी कुंडली में कोई प्रकार का दोष, व्यापार में बाधा या आर्थिक समस्या हो तो करें भगवान गणपति को इन उपायों से प्रसन्न…

1. सर्व मनोकामना के लिए पार्थिव गणपति का पूजन व अभिषेक करें। साथ ही शुद्ध घी का अखंड दीपक करें।
2. चारों पुरुषार्थ की प्राप्ति के लिए गणपति अथर्वशीर्ष का पाठ करें। गणेशजी को मीठा पान चढ़ाएं।
3. गणपति सहस्त्रार्चन करने से भगवान गणेशजी कृपा पूर्ण रूप से बनी रहती है/ गुलाब के पुष्प अर्पित करें।
4. समस्त प्रकार के संकट दूर करने के लिए संकटनाशन स्तोत्रं और भालचंद्र का पाठ करें। साथ ही गणेशजी को सिंदूर चढ़ाएं।
5. शोक निवारण व रोगोपद्रव को शांत करने के लिए मयूरेश स्तोत्र का पाठ और साथ मे मधुत्रय व लाजा से हवन करें। गणेशजी को गुड़ चढ़ाएं।
6. आर्थिक संकट का भार हो तो ऋणहर्ता गणपति अनुष्ठान करें। गणपति को दूर्वा चढ़ाएं।
7. संतान प्राप्ति के लिए सन्तान गणपति स्तोत्रम का पाठ करें और चावल की खील (लाजा) अर्पित करें।
8. विवाह दोष दूर करने के लिए त्रैलोकयमोहन गणेश का अनुष्ठान करें और मोदक (लड्डू) का भोग लगाएं।

-पंडित गिरधारी सूरा (पुरोहित), बारह गुवाड़ का चौक, सुरदासानियों की गली, भैरव निवास, बीकानेर (राज.)
09950215052