आज जरूरत हिन्दू धर्म के सिद्धान्त की पालना की : महंत क्षमाराम महाराज

बीकानेर Abhayindia.com भागवत कथा को सुनने से परम मुक्ति का स्थान मिलता है। पशु प्रवृति वालों को यह कथा अच्छी नहीं लगती है। श्रीमद् भागवत कथा का वाचन करते हुए सींथल पीठाधीश्वर महंत क्षमाराम महाराज ने भगवान के भागवत प्रेम की बात बताई और भगवान वराहावतार ही क्यों बने, किसलिए बने इसके अनेक कारण बताए।

महाराज ने कहा कि जब-जब धरती पापी लोगों से कष्ट पाती है तब-तब भगवान विविध रूप धारण करके दुख दूर करते हैं। हमारे यहां जिसे अपवित्र माना जाता है, सूअर को लोग हेय दृष्टि से देखते हैं भगवान वराहावतार बने, हाथी को देखो  हम गजानन मानते हैं। आप मोर, सांप, चूहा देखलो, ऐसा किसी और धर्म में नहीं मिलेगा। क्षमाराम महाराज ने कहा कि आज जरूरत हिन्दू धर्म के सिद्धान्त की पालना की है। लेकिन हम बंदरों की तरह हैं। बन्दरी जैसे अपने बच्चे को हरदम चिपकाए रखती है। बहुत प्यार करती है, लेकिन जैसे ही भूख लगती है, उसके हाथ से निवाला छीनकर खा जाती है। हम भी धर्म के मामले में कुछ ऐसे ही हैं।

गुुरुवार की कथा में महाराज ने हिरण्याक्ष के पैदा होने और क्यों हुआ, कश्यपजी, भगवान ब्रम्हाजी का प्रसंग सहित ब्रम्हाजी, गरुड़जी और लक्ष्मीजी का सनकादिक से मिलने के प्रसंग विस्तार पूर्वक बताए। महाराज ने कहा कि आज लोग मिथ्या अहंकार रखते हैं। यह सबसे बड़ी गलती है। सद्ज्ञान देते हुए महाराज ने उपस्थित धर्म प्रेमी बंधुओं से कहा कि वे विषयों से बचने का प्रयास करें, यह अच्छी बात नहीं है। वासनाओं के वशीभूत होने से बचें और गलती करने से बचने का प्रयास करें। यह धर्म की दृष्टि से ना अच्छी बात है और ना ही इसे सही कहा जा सकता है।

पंडाल छोटा पड़ा
श्रीमद् भागवत कथा का श्रवण करने के लिए श्रद्धालुओं में जबर्दस्त उत्साह का वातावरण बना हुआ है। प्रतिदिन श्रद्धालुओं की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। इसके चलते पंडाल छोटे पडऩे लगे हैं। इसके अलावा समिति के पदाधिकारियों को व्यवस्था बनाने में भी एड़ी-चोटी का जोर लगाना पड़ रहा है।

भारत-पाकिस्‍तान के बहुप्रतीक्षित क्रिकेट मैच से एक महीने पहले ही बिक गए सारे टिकट, 23 अक्‍टूबर को…

बीकानेर में साइबर सेल की बड़ी सफलता, 24 घंटे में रिफंड कराए धोखाधड़ी से उड़ाए गए 10.42 लाख रुपए

राजस्‍थान में क्रिकेट के फैंस देख सकेंगे सहवाग, गंभीर, इरफान पठान व ब्रेट ली के जलवे…

बीकानेर में चार अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को पच्चीस-पच्चीस बीघा भूमि आवंटित