पुल हादसे को लेकर गहलोत का बड़ा हमला, कहा- ये लापरवाही का नमूना, सरकार…

Morbi Bridge
Morbi Bridge

अहमदाबाद /जयपुर Abhayindia.com गुजरात के मोरबी में हुए पुल हादसे को लेकर राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत का बड़ा बयान सामने आया है। आपको बता दें कि गुजरात चुनाव में कांग्रेस के सीनियर ऑब्जर्वर अशोक गहलोत वहां कांग्रेस के प्रभारी रघु शर्मा के साथ गुजरात के मोरबी पहुंचे। इससे पहले अहमदाबाद एयरपोर्ट पर मीडिया से बातचीत के दौरान सीएम गहलोत ने कहा अभीअभी खबर मिली है मोरबी में 190 लाशें मिल चुकी हैं। मीडिया में जो खबरें मिल रही हैं उससे और ज्यादा लाशें मिलने की सम्भावना है। बहुत दुखद घटना है। मुआवजा अपर्याप्त है। इसमें कैलेमिटी नहीं है, प्राकृतिक प्रकोप नहीं है। ये तो लापरवाही का नमूना है। लापरवाही किस स्तर पर हुई है ये अलग बात है।

सीएम गहलोत ने कहा कि लापरवाही का नमूना है तो उसी ढंग से सरकार को अधिकतम मदद करनी चाहिए। प्रधानमंत्री रिलीफ फंड से भी अलग से मदद मिलनी चाहिए। अभी सुना है कि 4 लाख रुपए राज्य सरकार, 2 लाख रुपए पीएम रिलीफ फंड से आ रहे हैं, जो बहुत ही अपर्याप्त हैं। कम से कम 10 लाख रुपए राज्य सरकार और 5 लाख रुपए पीएम रिलीफ फंड से मिलने चाहिए। इसके अलावा और भी मदद मिले, वो भी कम है। क्योंकि इन लोगों की कोई गलती या दोष नहीं है। जो हादसे में हताहत हुए हैं। ये प्राकृतिक प्रकोप नहीं है। सरकार को तत्काल कार्रवाई करनी चाहिए।

उन्‍होंने कहा कि एसडीआरएफ की टीमों को हादसे के बाद मौके पर आने में देरी हो गई। लेकिन, स्थानीय लोगों ने कोई कमी नहीं रखी। वो धन्यवाद के पात्र हैं। सवाल यह भी है कि लोकल ऑथोरिटी ने परमिशन नहीं दी तो ब्रिज पर लोगों को अलाऊ क्यों किया। ठेकेदार तो पैसा कमाने में लग जाता है। ऑथोरिटी को ध्यान रखना चाहिए था जब तक परमिशन नहीं थी, तब तक ब्रिज पर लोगों को अलाऊ नहीं करना चाहिए था। बहुत बड़ा हादसा हुआ है। पूरे देश के लोग चिन्तित हैं बहुत लोगों को आघात लगा है।

इधर, मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक ,मोरबी हादसे में पुल रखरखाव करने वाली एजेंसी के खिलाफ 304, 308 और 114 के तहत क्रिमिनल केस दर्ज किया गया है, आज से ही जांच शुरू की गई है।