शिक्षा विभाग: संक्रांति पर मिली नौकरी की सौगात, 109 लोगों की हुई की अनुकंपा नियुक्ति, देखें वीडियो…

बीकानेर abhayindia.com  शिक्षा विभाग ने मकर संक्रांति के दिन संवेदनशीलता दिखाते हुए 109 अभ्यर्थियों को नौकरी की सौगात प्रदान की है।

Preview YouTube video शिक्षा विभाग ने दी संक्रांति की सौगात, 109 लोगों को मिली नौकरी

अनुकंपा नियुक्ति आदेशों का अनुमोदन करते हुए माध्यमिक शिक्षा की अतिरिक्त निदेशक रचना भाटिया ने अभय इंडिया के साथ बातचीत में बताया कि अनुमोदन की जो सूची जारी की गई है उनमें 79 कनिष्ठ सहायक एवं 30 चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी है। शिक्षा विभाग ने अनुकंपा नियुक्ति प्रकरणों के संदर्भ में विभाग स्वयं सक्रियता दर्शाते हुए अधीनस्थ कार्यालयों से प्रकरण पूरा करवा रहा है।

…तब था गर्भ में अब नौकरी

राज्य सरकार ने अनुकंपा नियुक्ति प्रकरणों में विशेष संवेदनशीलता दिखाते हुए शिथिलता प्रदान की है। इसके चलते सूची में 27 प्रकरण निस्तारित हो सके हैं। इसमें 10 अभ्यर्थी ऐसे है जो संरक्षक की मृत्यु के समय 12 वर्ष या इससे भी छोटे थे। इसमें एक प्रकरण ऐसा है कि उक्त कर्मचारी की जब मौत हुई तब उनका बच्चा अपनी मां के गर्भ में था। शिक्षा विभाग ने उस बच्चे के आज बालिग होने पर नियुक्ति प्रदान की है।

साथ ही विभाग में कार्यरत रहते हुए एक कार्मिक की मौत 1996 में हो गई थी, कार्मिक की मृत्यु के 24 साल बाद राज्य सरकार ने शिथिलन प्राप्त कर आश्रित की नियुक्ति अनुमोदित की है। इसी प्रकार अन्य प्रकरण में कार्मिक की मौत के 21 वर्ष बाद आश्रित अभ्यर्थी को नौकरी प्रदान की गई है।

माता-पिता नहीं है…

जारी सूची में एक प्रकरण ऐसा भी है जिसमें एक लड़की के माता-पिता दोनों का देहांत हो चुका है, उस आज नौकरी मिल गई है। इसी तरह एक कार्मिक के वर्षों पहले गायब होने के बाद न्यायालय ने उसे मृत घोषित कर दिया, अब उसके आश्रित को नियुक्ति मिली है।

कर सकेंगे ऑनलाइन आवेदन…

आने वाले दिनों में अनुकम्पा नियुक्ति के लिए अभ्यर्थी ऑन लाइन आवेदन कर सकेंगे। अतिरिक्त शिक्षा निदेशक के अनुसार शिक्षा विभाग में इसकी कवायद चल रही है। माध्यमिक शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी के निर्देशानुसार पोर्टल शुरू की जाएगी। इसके बाद अनुकम्पा नियुक्ति जैसे संवेदनशील कार्य की प्रक्रिया ऑनलाइन हो जाएगी। मृत कर्मचारी के आश्रितों की ओर से आवेदन करते ही प्रत्येक आवेदन पत्र की समुचित ट्रेकिंग की जा सकेगी।

दो भाइयों की कहानी पीयूष शंगारी की जुबानी...

अभय इंडिया के फेसबुक पेज में जुडऩे के लिए क्लिक करें।

SHARE