बीकानेर : इस प्रतियोगिता में भागीदारी के लिए एसकेआरएयू का नाम ‘इंडिया बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स’ में दर्ज

स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय

बीकानेर abhayindia.com सबसे लम्बी वर्चुअल वाद-विवाद प्रतियोगिता में राजस्थान की ओर से सर्वाधिक प्रतिनिधित्व के लिए स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय को ‘इंडिया बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स’ में शामिल किया गया है।

कुलपति प्रो. आर. पी. सिंह ने बताया कि नयारा और महावीर इंटरनेशनल की ओर से युवा सशक्तीकरण एवं शैक्षणिक विकास के उद्देश्य से चल रहे कार्यक्रम ‘ज्ञानोदय’ के तहत राष्ट्रीय स्तर पर वर्चुअल वाद-विवाद प्रतियोगिता करवाई। प्रतियोगिता ‘स्मार्टफोन का बढ़ता क्रेज युवाओं के लिए वरदान या अभिशाप’ विषय पर हुई। राजस्थान के विद्यार्थियों के लिए यह प्रतियोगिता 27 से 30 दिसम्बर तक आयोजित हुई।

इसमें स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय के 127 विद्यार्थियों ने भाग लिया। जिनमें सर्वाधिक 107 विद्यार्थी गृह विज्ञान महाविद्यालय के थे। विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने लगातार चौबीस घंटे से अधिक समय तक विषय के पक्ष एवं विपक्ष में अपनी बात रखी। उन्होंने बताया कि प्रतियोगिता में देशभर से 904 विद्यार्थी शामिल हुए। इनमें राजस्थान की ओर से सर्वाधिक भागीदारी विश्वविद्यालय की रही।

इसके लिए इंडिया बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स में विश्वविद्यालय का नाम शामिल किया गया है। गृह विज्ञान महाविद्यालय की अधिष्ठाता डाॅ. विमला डुंकवाल ने यह प्रमाण पत्र कुलपति को सौंपा। इस दौरान डाॅ. प्रसन्नलता आर्य एवं डाॅ. कीर्ति खत्री मौजूद रहे। उल्लेखनीय है कि पूर्व में विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित प्रदेश के पहले वर्चुअल दीक्षांत समारोह को भी इंडिया बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स में शामिल किया गया था। इसके बाद स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय की एक और उपलब्धि को ‘इंडिया बुक ऑफ़ रिकॉर्ड्स’ में शामिल किया गया है। कुलपति ने इस पर प्रसन्नता जताई है तथा कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा शैक्षणेत्तर गतिविधियों में भी बढ़-चढ़कर भागीदारी निभाई जाए।

SHARE