ज्योतिष की नजर में : नया साल 2019 लाएगा खुशियों का खजाना

GP Bissa
GP Bissa

(नया साल 2019 कन्या लग्न और स्वाती नक्षत्र में प्रवेश करेगा। दूसरे शुक्र, चन्द्र, तीसरे बुध, गुरू, चौथे सूर्य, शनि, पाचवें केतु, सातवें मंगल तथा लाभ में राहु स्थित है। इस समय शनि भी अस्तगत होकर विचरण कर रहा है)

इस वर्ष भारत का विदेशों में गौरव बढ़ेगा। जन कल्याणकारी योजनाओं से आम जन का जुड़ाव होगा। राम मन्दिर निर्माण की दिशा और तारीख तय होकर निर्माण कार्य शुरू होगा। साहित्य, संस्कृति, कला एवं खेल के क्षेत्र में विशिष्ट उपलब्धि हासिल होगी। युवा वर्ग एवं स्त्री वर्ग के लिए उत्साहवर्धक नये नियमों से राजनीति में जगह मिलेगी। व्यापारी वर्ग को नये नियमों से व्यापार में कुछ राहत का योग है। विदेश नीति में अच्छी सफलता मिलेगी।

राजनीति के क्षेत्र में एनडीए एवं यूपीए घटक दलों में आपसी खींचतान तथा अन्दरूनी कलह जगजाहिर होगी। दोनों पार्टियों को अपने ही लोगों से जूझना पड़ेगा। लोकसभा चुनाव में सतारूढ़ पार्टी को काफी नुकसान उठाना पड़ेगा। देश में सामाजिक, धार्मिक उन्माद तथा जातीय संघर्ष के कारण आन्दोलनों का आगाज होगा। आर्थिक सुधार कार्यक्रमों का विशेष प्रभाव नहीं पड़ेगा। संवैधानिक संस्थाओं और सता पक्ष में गतिरोध की स्थिति। न्यायालय के अभूतपूर्व फैसलों के कारण कई दिग्गज नेताओं का भविष्य दाव पर होगा। मौसम के बदमिजाज एवं प्राकृतिक प्रकोप से जन-धन की हानि और फसलों पर विपरीत असर पडऩे का योग है। रूपये का अवमूल्यन होगा तथा पैट्रोल एवं डीजल के भाव में वृद्धि होगी। मूलत: यह वर्ष कुछ विपरित घटनाओं के बावजूद भारत विकास की ओर अग्रसर होगा तथा खुशियों का खजाना मिलेगा।

निम्न राशि वालों के लिए यह वर्ष इस प्रकार हैं :-

मेष-वृश्चिक : आर्थिक स्थिति में सुधार, शुभ समाचार मिलेंगे। पारिवारिक समस्याएं, मित्रों से धोखा स्वास्थ्य पीड़ा, अपनों से धोखा होने का प्रबल योग है। यात्रा में नुकसान का योग।

वृष-तुला : गुप्त शत्रुओं का जोर, व्यवसाय के क्षेत्र में अनावश्यक परेशानियां, कर्ज योग, मानसिक तनाव, परिवार में आकस्मिक दुर्घटनाएं, पत्नी एवं संतान पक्ष की चिन्ता।

मिथुन-कन्या : आर्थिक उलझने, कार्यों में रूकावटें, माता-पिता के पक्ष की चिन्ता, यात्राओं से परेशानी, जमीन विवाद, मांगलिक कार्यों में बाधाएं एवं स्त्री पीड़ा का योग।

धन-मीन : मान-सम्मान बढ़ेगा, आर्थिक स्थिति में सुधार, सन्तान की उन्नति, नवीन कार्य योजना बनेगी, यात्राओं से लाभ तथा यश मिलेगा, मांगलिक कार्य सम्पन्न होंगे।

मकर-कुम्भ : वर्ष के प्रारम्भिक दो माह कुछ परेशानियों से गुजरेंगे, फिर नये कार्यों की शुरूआत, आर्थिक लाभ, मान-सम्मान बढ़ेगा, जमीन विवाद तथा माता को कष्ट का योग।

कर्क : मानसिक तनाव, कार्यों में बाधाएं, खर्च अधिक, मांगलिक कार्यों में रूकावटें, गुप्त शत्रुओं का जोर, व्यवसाय में संघर्ष के बाद सफलता, सन्तान की उन्नति तथा पत्नी को लाभ होगा।

सिंह : मान-सम्मान बढ़ेगा, उन्नति के नये अवसर मिलेंगे, आर्थिक स्थिति में सुधार, नया वाहन या मकान बनने का योग, घर में मांगलिक कार्य होंगे तथा शुभ सामाचार मिलेंगे।

नोट : यह भविष्य फल गोचर ग्रह अनुसार है। सटीक जानकारी के लिए अपनी जन्म पत्रिका लेकर सम्पर्क करें। -गिरवर प्रसाद बिस्सा (शास्त्री) 9413481194

एग्जिट पोल ही नहीं, ज्योतिषी की नजर में भी इस पार्टी की बनेगी सरकार…

शनि अस्त का प्रभाव