कलक्टर की मैराथन बैठक, इन अफसरों को मिली फील्ड में काम करने की हिदायतें

405
कलक्ट्रेट सभागार में बैठक को संबोधित करते जिला कलक्टर डॉ. एन. के. गुप्ता।
कलक्ट्रेट सभागार में बैठक को संबोधित करते जिला कलक्टर डॉ. एन. के. गुप्ता।

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। जिला कलक्टर डॉ. एन. के. गुप्ता ने शनिवार को लगभग चार घंटे चली मैराथन बैठक में न्याय आपके द्वार अभियान की प्रगति समीक्षा की। कम उपलब्धि वाले विभागों को गंभीरतापूर्वक कार्य करने की हिदायत दी तथा कहा कि शिविरों से पूर्व तैयारी की जाए। सभी 15 विभागों के अधिकारी नियमित रूप से शिविरों में जाएं तथा शिविर उपरांत कार्यों का रिव्यू करें, जिससे अच्छे परिणाम आएं और आमजन को राहत मिल सके।

डॉ. गुप्ता ने कहा कि रसद विभाग द्वारा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के पात्र लेकिन लाभ से वंचितों के नाम जुड़वाने, उज्जवला योजना के तहत नि:शुल्क कनेक्शन जारी करने संबंधी कार्य शिविरों के दौरान किए जाएं। विभाग वंचितों को गैस कनेक्शन जारी करने की कार्ययोजना बनाए। कम उपलब्धि वाली गैस एजेंसियों को मुस्तैद करें। उपखण्ड अधिकारी एनएफएसए प्रकरणों का शीघ्र निस्तारण करें। संपर्क पोर्टल पर खाद्य सुरक्षा से संबंधित आवेदन उपखण्ड अधिकारियों को भिजवाएं। उन्होंने कहा कि शत-प्रतिशत भामाशाह कार्डों का वितरण सुनिश्चित किया जाए।

एसडीएम-तहसीलदार करेंगे भौतिक निरीक्षण

जिला कलक्टर ने कहा कि जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग अपनी ‘फील्ड मशीनरी’ को मुस्तैद करें। शिविरों के दौरान पाइप लाइन लीकेज, हैण्डपम्प दुरूस्तीकरण जैसी समस्याओं का त्वरित निस्तारण किया जाए। उन्होंने कहा कि 31 मई तक प्रत्येक उपखण्ड अधिकारी एवं तहसीलदार द्वारा पानी की 25.25 टंकियों का भौतिक सत्यापन करना होगा। इस दौरान उन्हें जांचना होगा कि टंकियों की सफाई कब हुई तथा वर्तमान में इनकी क्या स्थिति है? उन्होंने जांच के उपरांत रिपोर्ट उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग को टंकियों की सफाई नॉम्र्स के अनुसार करवाने की हिदायत दी।

श्रम विभाग को सोमवार को बतानी होगी प्रगति

जिला कलक्टर ने श्रम विभाग द्वारा निर्माण श्रमिकों के पंजीयन एवं पंजीकृत श्रमिकों को विभिन्न योजनाओं से लाभंावित करने की स्थिति की जानकारी सोमवार को व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होकर उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि श्रम निरीक्षकों को ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया की जानकारी होनी चाहिए। योजनाओं से संबंधित प्रकरणों का बेवजह लंबित रहना असहनीय होगा। उन्होंने कहा कि उपखण्ड अधिकारियों द्वारा मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान का नियमित रिव्यू किया जाए। न्याय आपके द्वार शिविरों के दौरान एमजेएसए के तहत चयनित गांवों में कार्यों का अवलोकन किया जाए।

औचक निरीक्षण के दौरान जानेंगे पीएचसी की स्थिति

जिला कलक्टर ने कहा कि अगले महीने उपखण्ड अधिकारी-तहसीलदार जिले के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों का औचक निरीक्षण करेंगे। इस दौरान इन केन्द्रों की विभिन्न व्यवस्थाओं की वस्तुस्थिति मालूम की जाएगी। उन्होंने कहा कि कौनसा अधिकारी कहां जाएगा, इसकी सूचना उसी दिन एसएमएस अथवा व्हाट्सऐप के माध्यम से संबंधित अधिकारी को ही दी जाएगी। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार जुलाई में स्कूलों का औचक निरीक्षण करवाया जाएगा। उन्होंने सैनिक कल्याण, आयुर्वेद तथा चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सहित विभिन्न विभागों द्वारा शिविर के दौरान किए जाने वाले कार्यों के बारे में जानकारी ली।

योजनाओं की जानकारी देंगे ‘कृषि समृद्धि रथ’

डॉ. गुप्ता ने मृदा स्वास्थ्य कार्ड जारी करने तथा इनके वितरण की समीक्षा की। उन्होंने बताया कि अगले सप्ताह से शिविर वाली ग्राम पंचायतों में कृषि समृद्धि रथ के माध्यम से किसानों को कृषि संबंधी योजनाओ की जानकारी दी जाएगी तथा इनके माध्यम से किसानों को खरीफ के बीज भी उपलब्ध करवाए जाएंगे। उन्होंने सौभाग्य तथा पंडित दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण विद्युतीकरण योजना की प्रगति जानी। आंगनबाड़ी केन्द्रों के रिक्त पदों को भरने की कार्यवाही करने को कहा।

इन प्रकरणों के निस्तारण को दें प्राथमिकता

डॉ. गुप्ता ने कहा कि शिविरों में राजस्व से संबंधित समस्त प्रकरणों के त्वरित तथा नियमसम्मत निस्तारण का प्रयास हो। इस दौरान धारा 136, 53, म्यूटेशन अपील, इजराय, धारा 251, पत्थरगढ़ी सीमाज्ञान तथा धारा 183 से जुड़े प्रकरणों के निस्तारण को प्राथमिकता दी जाए। शिविरों का प्रचार-प्रसार करवाया जाए। जनप्रतिनिधियों को इनकी सूचना दी जाए। रास्तों के विवादों का त्वरित निस्तारण करें। राजस्व विलेख में दुरूस्ती मौके पर ही की जाए। प्रत्येक राजस्व अधिकारी को मालूम रहे कि उनके यहां किस-किस प्रकार के कितने प्रकरण लंबित हैं।

बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर (प्रशासन) यशवंत भाकर, अतिरिक्त कलक्टर (नगर) शैलेन्द्र देवड़ा, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अजीत सिंह राजावत, महिला एवं बाल विकास विभाग की उपनिदेशक रचना भाटिया सहित समस्त राजस्व एवं विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे।