इस दिन होगा मातामह श्राद्ध, शुरू होगी नवरात्रा, पढ़ें पूरी खबर…

बीकानेर Abhayindia.com एक पखवाड़े से चले आ रहे पितर पक्ष (श्राद्ध) की पूर्णाहुति 17 सितंबर गुरुवार को होगी। इस दिन सर्वपितर श्राद्ध भी कहा जाता है, अमावस्या होने के कारण दान-पुण्य का विशेष महत्व होता है।

वहीं पितर तर्पण अनुष्ठान की पूर्णाहुति भी इसी दिन होगी। पंचांंगकर्ता पंडित राजेन्द्र किराड़ू के अनुसार इस बार आश्विन अधिक मास होने के कारण लेकिन इस बार मातामह श्राद्ध (नोना श्राद्ध) अगले माह 17 अक्टूबर को होगा। उसी दिन से देवी उपासना का पर्व नवरात्रा शुरू हो जाएंगे। गौरतलब है कि हर साल श्राद्ध पक्ष की अमावस्या के बाद प्रतिपदा तिथि को मातामह श्राद्ध मनाया जाता है। पितर अमावस्या पर तर्पण के बाद हवन के आयोजन भी होंगे।

होगी घट स्थापना….

इस बार 17 अक्टूबर से ही नवरात्रा की घट स्थाना होगी। नौ दिवसीय पर्व में देवी माता की पूजा-अनुष्ठान होंगे। श्रद्धालु उपवास का संकल्प लेंगे। कई धार्मिक अनुष्ठान होंगे।

बीकानेर : चकगर्बी में गलत खातेदारी, फर्जी तरमीम के मामले में जांच कमेटी गठित

बीकानेर। बीकानेर शहर से नजदीक ग्राम चकगर्बी में गलत खातेदारी और फर्जी तरमीम के जरिये खातेदारों और अराजीराज जमीन पर कब्जे के मामले को गंभीरता से लेते हुए बीकानेर के राजस्व तहसीलदार ने प्रकरण की जांच के लिये पांच सदस्यीय कमेटी का गठन किया है।

नायब तहसीलदार लक्ष्मीचंद पंचार की अध्यक्षता में गठित जांच कमेटी में गिरदावर अनवर अली, संजय गौड़ (भू.अ. निरीक्षक नालबडी), हलका पटवारी रामदेव सारस्वत और नालबड़ी पटवारी कैलाश मीणा को शामिल किया गया है। जा

नकारी में रहे कि इस मामले को लेकर पिछले सप्ताह चुंगी चौकी गजनेर रोड़ निवासी नारायण कुम्हार ने जिला कलक्टर को ज्ञापन देकर अवगत कराया था कि चकगर्बी के खसरा नंबर 1304/159 उपनिवेशन नंबर 533 में पचास बीघा मघी देवी पत्‍नी शेराराम कुम्हार की खातेदारी जमीन है, लेकिन तहसील मुख्यालय के कार्मिकों ने उपनिवशेन खसरा नंबर 533 की जगह इंतकाल में दूसरे उपनिवेशन खसरा नंबर 612, 613 और 614 दर्ज कर दिये, जिससे मघीदेवी का कोई लेना-देना नहीं और तीनों खसरे रिकॉर्ड में अराजीराज दर्ज थे। इस खातेदारी के इंतकाल के तुरंत स्वीकृति के बाद जमीन तत्कालीन हल्का पटवारी ने किसी एमना को विक्रय की हुई है, जिसका रिकॉर्ड भी इंतकाल में दर्ज है। इस इंतकाल में एक ओर हवाई उपनिवेशन खसरा नंबर 600 जोड़ दिया गया है, जो अराजीराज है। राजस्व खसरा 1304/159 के राजस्व लठ्ठे में बिना अनुमति तरमीम कर दी गई है। इस मामले में तहसील मुख्यालय के कार्मिकों की अहम भूमिका रही है। इसलिये मामले की उच्‍च्‍ स्तरीय जांच कराई जाकर कार्यवाही की जाये।

SHARE
https://abhayindia.com/ बीकानेर की कला, संस्‍कृति, समाज, राजनीति, इतिहास, प्रशासन, धोरे, ऊंट, पर्यटन, तकनीकी विकास और आमजन के आवाज की सशक्‍त ऑनलाइन पहल। Contact us: abhayindia07@gmail.com : 9829217604