मंत्री भाटी ने पशुओं मे फैल रहे लम्पी स्किन रोग पर नियंत्रण के लिए मुख्यमंत्री एवं पशुपालन मंत्री से की चर्चा

Bhanwar Singh Bhati
Bhanwar Singh Bhati

बीकानेर Abhayindia.com ऊर्जा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने श्रीकोलायत विधानसभा क्षेत्र सहित बीकानेर जिले में पशुओं में तेजी से बढ़ रहे लम्पी रोग संक्रमण पर नियंत्रण के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एवं पशुपालन विभाग मंत्री लालचंद कटारिया को संक्रमण की भयावहता की जानकारी देते हुये क्षेत्र में तत्काल अतिरिक्त पशु चिकित्सा अधिकारी, दवाईयाँ-वैक्सीन आदि उपलब्ध करवाने की मांग रखी है, साथ ही उन्होंने वेटेनरी विश्वविद्यालय में अध्ययनरत पशुचिकित्सा छात्रों, कार्मिकों, शिक्षकों एवं संसाधनों का उपयोग इस संकट में लेने का सुझाव भी उच्च स्तर पर दिया है।

ऊर्जा मंत्री भाटी ने अपने विधानसभा क्षेत्र श्रीकोलायत में आवश्यक पशु दवाईयों एवं वैक्सीन की तत्काल एवं पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करवाने के लिए अपने विधायक निधि कोष से 12.50 लाख रुपये जारी करने के स्वीकृति भी प्रदान कर दी है। मंत्री भाटी ने बताया कि इसमें से 5.00 लाख रुपये पंचायत समिति क्षेत्र श्रीकोलायत, 5.00 लाख रुपये पंचायत समिति क्षेत्र बज्जू तथा 2.50 लाख रुपये पंचायत समिति बीकानेर के अधीन आने वाली श्रीकोलायत विधानसभा क्षेत्र की ग्राम पंचायतों हेतु स्वीकृत किये है।

ऊर्जा मंत्री भाटी ने बताया की लम्पी स्किन रोग का संक्रमण निरन्तर बढ़ता जा रहा है, साथ ही संक्रमित पशुओं की मृत्युदर भी बढ़ रही है, इसे लेकर पशुपालकों से वे निरन्तर सम्पर्क में है, तथा जिला प्रशासन एवं संयुक्त निदेशक पशु चिकित्सा बीकानेर को भी उन्होंने प्रभावित क्षेत्र में तत्काल पशु चिकित्सक मय पर्याप्त दवाईयाँ-वैक्सीन सहित मोबाईल टीमें भेजे जाने हेतु निर्देशित किया है। ऊर्जा मंत्री ने बताया की इस सम्बंध में उपखण्ड अधिकारी श्रीकोलायत एवं बज्जू ने भी ग्राम स्तर पर प्रभारी नियुक्त कर उनके मोबाईल नम्बर भी जारी किये है तथा प्रभारियों को पशुपालकों की हर संभव मदद हेतु आदेशित भी किया है।

भाटी ने कहा कि इस घातक बीमारी से पशुओं को निजात दिलवाने के लिये वे पशुपालकों की हर संभव मदद का प्रयास कर रहें हैं, मुख्यमंत्री एवं पशुपालन मंत्री के अतिरिक्त उन्होंने शासन सचिवालय जयपुर, स्थानीय प्रशासन, कुलपति वेटेनरी विश्वविद्यालय बीकानेर से भी पशुपालकों की हर संभव मदद करने का आवाह्न किया है, तथा प्रशासन भी युद्ध स्तर पर मदद के लिए प्रयासरत है।