संपादकीय : “अभय इंडिया” की स्‍थापना का बेमिसाल एक दशक, निष्‍पक्ष पत्रकारिता के बूते किया 11वें वर्ष में प्रवेश…

Suresh Bora Editorial Abhay India
Suresh Bora Editorial Abhay India

22 जून 2022 को “अभय इंडिया” अपनी स्‍थापना का एक दशक पूर्ण करते हुए 11वें वर्ष में प्रवेश कर रहा है। अभय इंडिया की शुरूआत 22 जून 2012 से हुई। अभय इंडिया अपने आरंभ से ही विश्वसनीयता और उच्‍च मूल्यों के लिए जाना जाता है। इसीलिए पाठकों ने पहले प्रिंट और अब डिजिटल प्रारूप को हाथोंहाथ स्‍वीकार कर लिया। सच्‍ची और सटीक खबरों के दम पर अभय इंडिया ने अपनी विशिष्‍ट जगह बनाई है। सामाजिक मुद्दों पर जागरूकता उत्पन्न करने में कभी कोई कोर कसर बाकी नहीं रखी। आमजन से संबंधित मसलों को समय-समय पर उजागर करने का काम किया है।

सभी पाठक जानते हैं कि बीते दस वर्षों में ऐसे कई अवसर आए जब सिस्‍टम ने अभय इंडिया की ओर प्रकाशित समाचारों पर संज्ञान लेते हुए उन पर त्‍वरित कार्रवाई की। पाठक यह भी जानते हैं कि अभय इंडिया ने हमेशा आमजन से जुड़े मसलों को बेबाकी के साथ आगे लाता रहा है।

अभय इंडिया ने नए दौर की तकनीक के साथ चलते हुए वर्ष 2017 में अभय इंडिया डॉट कॉम (Abhayindia.com) की शुरूआत कर दी थी। इसके माध्‍यम से पाठकों अब 24 घंटे ताजातरीन खबरें मिल रही है। निष्‍पक्ष एवं निर्भीक पत्रकारिता के दम पर इस प्‍लेटफार्म की भी एक नई कहानी लिखी जा रही है। अभय इंडिया की खबरें केवल स्‍थानीय स्‍तर पर भी नहीं, बल्कि प्रदेश और देश-दुनिया के पाठकों तक भी बहुत सहजता के साथ पहुंच रही है।

पाठक यह भली-भांति जानते हैं कि अभय इंडिया के जरिए विचारों, सामग्री, सूचना और समाचार को तीव्र गति से लोगों के बीच साझा किया जा सकता है। हमारे देश के संविधान में मीडिया को लोकतंत्र के चार मुख्य स्तम्भ में से एक माना गया है। इसलिए मीडिया की समाज के प्रति देश के प्रति बहुत बड़ी जिम्मेदारी भी होती है। इसी बात को अंगीकार करते हुए अभय इंडिया एक ऐसा माध्यम बना है जो आम जनता की आवाज को बुलंद करता है। उनके हर दुःख दर्द का साथी बनने की कोशिश करता है।

आप सभी पाठकों को विश्‍वास दिलाते हैं कि अभय इंडिया की पूरी टीम आगे भी सच्‍ची और अच्‍छी खबरों के माध्‍यम से आपको हमेशा सजग और सतर्क करती रहेंगी। इन्‍हीं शुभकामनाओं सहित आप सबका बहुत-बहुत आभार। -सुरेश बोड़ा, संपादक, अभय इंडिया