कोरोना: टीकाकरण वित्तीय सहयोग अभियान, सीएम के जन्म दिन पर राजीव गांधी स्टडी सर्किल संगठन की पहल…

बीकानेर Abhayindia.com राजीव गांधी स्टडी सर्किल संगठन ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के जन्म दिवस के अवसर पर अनूठी पहल करते हुए कॉविड निशुल्क टीकाकरण वित्तीय सहयोग अभियान का आगाज राष्ट्रीय स्तर की वर्चुअल गोष्ठी के माध्यम से आज किया।

संगोष्ठी में कैबिनेट मंत्री डॉ.बी.डी कल्ला , उच्च शिक्षा राज्य मंत्री भंवर सिंह भाटी, तकनीकी शिक्षा मंत्री डॉ.सुभाष गर्ग शामिल हुए। संयोजक एवं राजीव गांधी स्टडी सर्किल के प्रदेश सह समन्वयक डॉ.विठ्ठल बिस्सा ने बताया कि इस सेमिनार का उद्देश्य प्रदेश सरकार द्वारा इस महामारी के संकट काल में 18 वर्ष से ऊपर एवं 44 साल तक के आयु वर्ग के लोगों को जो निशुल्क टीकाकरण की घोषणा की गई है,

और इस इस आयु वर्ग के लोगों के निशुल्क टीकाकरण होने पर प्रदेश सरकार पर जो अतिरिक्त वित्तीय भार आएगा उस अतिरिक्त वित्तीय भार को वहन करने के लिए प्रदेश के शिक्षक ही नहीं अपितु प्रदेश से बाहर के शिक्षक साथी शिक्षाविद एवं गणमान्य नागरिक अपना वित्तीय सहयोग प्रदान करके गहलोत के इस लोक कल्याणकारी घोषणा के लिए उनके साथ खड़े हैं एवं उनके समर्थन में और उनके सहयोग के लिए सदा संकल्पबद्ध है ।

संगठन के राष्ट्रीय समन्वयक प्रोफेसर सतीश राय ने इस प्रेरणा को आत्मसात करते हुए अपने संगठन से जुड़े सभी साथियों से सुझाव व चिंतन करने के बाद इसे असली जामा पहनाया है।

संगोष्ठी में ऊर्जा मंत्री डॉ.बी.डी कल्ला ने आह्वान किया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री ने हमेशा सत्ता के विकेंद्रीकरण को प्रमुखता से अपनाया है एवं आम जनता के साथ कार्य करने की उनकी अनूठी शैली ने ही उन्हें जननायक बनाया है। मुख्यमंत्री के लोक कल्याणकारी फैसले के साथ प्रदेश का शिक्षक, शिक्षाविद व नागरिक स्वप्रेरणा से कंधे से कंधा मिलाकर उनका समर्थन करें।

डॉ. कल्ला ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा इस आयु वर्ग के लोगों के लिए निशुल्क टीकाकरण के लिए 3000 करोड़ रुपए के अतिरिक्त बजट प्रावधान किए जाने के कारण जो अतिरिक्त वित्तीय भार आया है उस अतिरिक्त वित्तीय भार को कम करने में अपनी ओर से अधिक से अधिक वित्तीय सहयोग अपने सामर्थ्य के अनुरूप देने का भरसक प्रयास करें ताकि प्रदेश सरकार आम जनता के जीवन संकट को दूर करने के लिए तथा इस महामारी से संक्रमित लोगों के लिए ऑक्सीजन, वेंटिलेटर अतिरिक्त बेड, आवश्यक दवाइयां,एवं स्वास्थ्य संबंधी अन्य सुविधाओं का विस्तार यथाशीघ्र करके प्रदेश की जनता को राहत प्रदान करने में समर्थ हो सके तथा इस महामारी की रोकथाम में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का अच्छे ढंग से निर्वाह कर सकें।

भंवर सिंह भाटी ने कहा कि कोरोना का बेहतर प्रबंधन करने में कोई कसर पहले भी नहीं छोड़ी है और इस दूसरी लहर में जिसमें संक्रमण का खतरा पहले से कहीं ज्यादा हो गया है। सरकार निशुल्क जांच, दवाइयां, टीकाकरण,अस्पतालों में सुविधाएं को लेकर अपना संपूर्ण प्रयास कर रही है और आगे भी आम जनता के दुख दर्द को कम करने में अपना संपूर्ण प्रयास करती रहेगी।
संगोष्ठी में राजस्थान सरकार के तकनीकी व संस्कृत शिक्षा मंत्री डॉ सुभाष गर्ग ने उपस्थित होकर राजीव गांधी सभी सर्किल के इस अनूठे अभियान के लिए सभी शिक्षक साथियों को प्रोत्साहित किया। समन्वयक प्रोफेसर सतीश राय ने कहा कि संगठन के सभी शिक्षक साथी इस योजना का स्वागत करते हैं एवं इस अनुठे अभियान के माध्यम से संगठन मजबूती के साथ सरकार के इस जन हितेषी कार्य में तन मन और धन के साथ अपना पूरा समर्थन व सहयोग देगा।

संगोष्ठी को जोधपुर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर पीसी त्रिवेदी, प्रोफेसर आई वी त्रिवेदी, राजस्थान उच्च शिक्षा आयोग के अध्यक्ष प्रोफेसर चुंडावत, राजस्थान हिंदी ग्रंथ अकादमी के अध्यक्ष बीएल सैनी, उत्तर प्रदेश के आरजीएससी के समन्वयक एवं महाराजा गंगा सिंह विश्वविद्यालय के सिंडिकेट सदस्य प्रोफेसर विनोद चंद्रा,मेघालय से प्रोफेसर सुवालाल, जयपुर विश्वविद्यालय से प्रोफेसर एमएल वडेरा,कोटा से डॉ.अनुज विलियम, उदयपुर से प्रो पीआर व्यास उत्तर प्रदेश से प्रोफेसर गणेश शंकर त्रिपाठी, प्रदेश के सबसे बड़े राजकीय डूंगर महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.जीपी सिंह, चूरू से प्रोफेसर जेपी खान, गंगानगर से प्रोफेसर एसएन कलसी,राजस्थान के राष्ट्रीय सेवा योजना के राष्ट्रीय सम्मेलन डॉक्टर बने सिंह, राजस्थान आयुक्तालय कॉलेज शिक्षा से प्रोफेसर सुभाष यादव, कॉलेज शिक्षा के सहायक निदेशक डॉ राकेश हर्ष, रुक्टा के प्रदेश महामंत्री डॉ विजय ऐरी, आरजीएससी के संभाग समन्वयक प्रोफेसर एन के ब्यास,प्रोफेसर सतीश कांत दुबे प्रोफेसर देवेंद्र सिंह परमार,एमएस गर्ल्स महाविद्यालय के प्राचार्य प्रोफेसर शिशिर शर्मा,

राजकीय विधि महाविद्यालय के प्राचार्य डॉक्टर भगवानाराम बिश्नोई, रामपुरिया जैन महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ पंकज जैन,ज्ञान विधि महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ बीएल बिश्नोई, सिस्टर निवेदिता गर्ल्स महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ रितेश व्यास, महाराजा गंगा सिंह विश्वविद्यालय से डॉक्टर अंबिका ढाका व तकनीकी शिक्षा से प्रोफेसर एमएन पठान प्रोफेसर कपिल ज्याणी, डूंगर महाविद्यालय से डॉक्टर नरेंद्र नाथ, रामपुरिया विधि महाविद्यालय से डॉक्टर रितेश व्यास, डॉ बालमुकुंद, राजकीय विधि महाविद्यालय से डॉक्टर शिव शंकर सहित देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों के शिक्षक साथी तथा महाविद्यालयों के प्राचार्य एवं शिक्षाविदों ने संबोधित किया ।

SHARE