बीकानेर : बेघर, लाचार, बीमार व लावारिस वृद्धजनों से मिले जिला कलक्टर, होगा हैल्थ चैकअप

abhayindia.com
abhayindia.com

बीकानेर abhayindia.com जिला कलक्टर नमित मेहता ने गुरुवार को जयपुर रोड पर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सहयोग से और राम प्रताप-हनुमानदास मूधड़ा चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा संचालित ’अपना घर’ वृद्ध आश्रम व सोफिया स्कूल के पास एस.डी.काॅन्वेंट की ओर से संचालित शांति निवास वृद्ध आश्रम का निरीक्षण किया।

जिला कलक्टर नमित मेहता ने घर परिवार से बेघर, लाचार, बीमार व लावारिस वृद्धजनों से आत्मीय भाव से बातचीत की और कहा कि अपना घर वृद्धाश्रम में निराश्रित वृद्धजनों की सेवा मानवता की सच्ची सेवा है। वृंदावनएनक्लेव स्थित अपना घर वृद्धाश्रम का अवलोकन करने पर उन्होंने कहा कि इस आश्रम में निस्वार्थभाव से मानवता की सेवा की जा रही है,जो मानवता की सच्ची सेवा है। सेवा कार्य में लगे कार्यकर्ताओं के प्रति आदर प्रकट करते हुए कहा कि भौतिकतावादी युग में भी यहां बुजुर्गों की प्रेम, त्याग व समर्पण के साथ सेवा समाज के लिए अनुकरणीय है। उन्होंने कहा कि यह दुख की बात है कि विपरित परिस्थितियों के चलते कुछ बुजुर्गों को अपने परिवार का साथ नहीं मिल पाता है। ऐसे में यह आश्रम समाज के लिए प्रेरणा है।

जिला कलक्टर ने यहां आवसित बुजुर्गों से उनके हालचाल और परिवार के बारे में जाना और उनसे कहा कि आपकी जो भी समस्या है, उनका ध्यान रखा जायेगा। उन्होंने बुजुर्गों से उनके स्वास्थ्य के बारे में बातचीत की और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.बी.एल.मीना को निर्देश दिए कि सप्ताह में एक दिन आश्रम में चिकित्सक भेजकर, बुजुर्गों के स्वास्थ्य की जांच करवाई जाए। किसी भी परिस्थिति में वृद्धजनों के बीमारी, दुख व तकलीफ होने पर वृद्धआश्रम प्रबंधन उनसे सम्पर्क कर सकता है।

वृद्धजनों ने जिला कलक्टर मेहता को अपनों से दूर रहकर वृद्ध आश्रम पहुंचने तक के दर्द को सांझा किया। मेहता ने वृद्धजनों के लिए सिनेटाइजर व मास्क भेंट की तथा कहा कि करोना के इस दौर में वृद्धजनों की बेहतर देखभाल, नियमित स्वास्थ्य की जांच और अच्छी खुराक की दरकार है। वृद्धजनों को उचित सम्मान व आत्मीय भाव देने से वे स्वस्थ और प्रसन्नचित रहते है।

निराश्रित व्यक्ति स्वयं तैयार करता है भोजन-इस दौरान मेहता ने आश्रम के रसोई घर और विभिन्न वार्डों का भी अवलोकन किया और व्यवस्थाओं की सराहना की। रसोई घर में उन्हें बताया गया कि इस आश्रम में लम्बे समय से आवासित एक निराश्रित व्यक्ति यहां आवासित लोगों के लिए भोजन तैयार कर रहा है।

राम प्रताप-हनुमानदास मूधड़ा चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा संचालित अपना घर बृद्धाश्रम में वर्तमान में 144 निराश्रित और मंदबुद्धि व्यक्ति रह रहे है। ट्रस्टी एवं जिला उद्योग संघ के अध्यक्ष डीपी पचीसिया ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा प्रति व्यक्ति 1750 रूपये प्रतिमाह दिए जा रहे हैं। शेष राशि ट्रस्ट द्वारा वहन की जाती है।

शांति निवास वृद्ध की प्रभारी सिस्टर शांति व अन्य सिस्टर्स और वृद्धजनों ने जिला कलक्टर का गुलदस्ते से स्वागत किया। बिना किसी सरकारी सहयोग से वृद्ध आश्रम सभी धर्म मजहब के लोगों को आश्रय दिया जाता है। उन्होंने वृद्ध आश्रम की दीवार को नगर विकास न्यास के सहयोग से ऊंची करवाने, नगर निगम की ओर से  आश्रम का कचरा नियमित हटवाने, वृद्धजनों का पुलिस सत्यापन और माह में एक दो स्वास्थ्य जांच करवाने में सहयोग की बात जिला कलक्टर से कही। जिला कलक्टर ने तत्काल संबंधित अधिकारियों को निर्देश देकर वृद्धश्रम की समस्याओं के निराकरण के निर्देश दिए। इस अवसर पर आश्रम के प्रबंध कमेटी के सचिव शिव कुमार सोनी ने आश्रम की गतिविधियों से अवगत करवाया तथा अतिथियों का स्वागत किया।

इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.बी.एल.मीणा, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के उप निदेशक एल.डी.पंवार, ट्रस्टी अशोक मूधड़ा सहित अनेक अधिकारी मौजूद थे।
SHARE