आतंकी हमले से बीकानेर में भी उबाल, बॉर्डर पर अलर्ट

आतंकी हमले के विरोध में शुक्रवार को यहां बीकानेर के कोटगेट क्षेत्र में पाकिस्तान का झंडा जलाते युवक।
आतंकी हमले के विरोध में शुक्रवार को यहां बीकानेर के कोटगेट क्षेत्र में पाकिस्तान का झंडा जलाते युवक।

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरूवार की शाम सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले की घटना को लेकर बीकानेर में भी जनमानस का गुस्सा उबाल पर है। इस कायरना हमले में शहीद हुए वीर जवानों की शहादत से जिले में शहर से लेकर गांवों तक माहौल शोकमग्न है। विश्व हिन्दू परिषद, बीकानेर युवा मंच के कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार शाम चार बजे यहां कोटगेट पर पाकिस्तान का झंडा जलाकर अपना आक्रोश व्यक्त किया। इस दौरान दुर्गाशंकर आचार्य (टनु काका), मालचंद सुथार, दुर्गा सिंह, विजय कोचर सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने पाकिस्तान के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की।

इधर, शहीदों की स्मृति में जिला पुलिस मुख्यालय समेत तमाम पुलिस थानों में श्रद्धांजलि सभाओं का आयोजन किया गया। राष्ट्रवादी संगठनों की ओर से पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन और आंतकी हमले के शहीदों के लिये श्रद्धाजंलि सभाएं आयोजित की गई। भाजपा और जागृति युवा मंच की ओर से कलक्टरी के सामने विरोध प्रदर्शन कर पाकिस्तान के झंडे फूंके गये। प्रदर्शन करने वालों में महापौर नारायण चौपड़ा, शहर भाजपा अध्यक्ष डॉ.सत्यप्रकाश आचार्य, महामंत्री मोहन सुराणा समेत पार्टी नेता कार्यकर्ता और जागृति मंच के युवा शामिल थे। प्रदर्शन के दौरान पाकिस्तान के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। कलक्टरी पर विरोध प्रदर्शन के बाद आयोजित श्रद्धाजंलि सभा में शहीद जवानों की स्मृति में दो मिनट का मौन धारण किया।

इस मौके पर शहर भाजपा अध्यक्ष डॉ. सत्यप्रकाश आचार्य ने अपने कहा कि पुलवामा में पाक समर्थित आंतकियों के कायरना हमले का हमारी सेना कड़ा जबाव देगी। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान हमारी सेना और सरकार के धर्य की परीक्षा ले रहा है, लेकिन अब उसे बख्शा नहीं जायेगा। महापौर नारायण चौपड़ा ने कहा कि आंतकी हमले में हमारे वीर जवानों के शहीद हो जाने से देश की आत्मा आहत हुई है। शहीदों के सम्मान में शुक्रवार को बीकानेर कृषि उपज मंडी भी बंद रही। जिला बार एसोसिएशन की ओर से शुक्रवार सुबह कचहरी में शोक सभा का आयोजन रखा गया। बीकानेर पब्लिक स्कूल प्रांगण में आज पुलवामा के आंतकी हमले में शहीद सीआरपीएफ के जवानों को 2 मिनट मोन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की गई तथा घायलो के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की गई।

शहीदों के सम्मान में बंद रहा खाजूवाला

पुलवामा आंतकी हमले में शहीद हुए जवानोंं की शहादत के सम्मान में शुक्रवार का सीमावर्ती खाजूवाला पूरी तरह बंद रहा। कस्बे में व्यापारियों और दुकानदारों ने अपनी दुकानें प्रतिष्ठान बंद रखे। मंडी में कारोबार बंद रखा गया। स्कूलों में भी शोक सभाओं के छुट्टी कर दी गई। कस्बे का हर शख्स हमले में शहीद हुए जवानों की शहादत पर शोकमग्र नगर आया। पुलिस थाने में भी श्रद्धाजंलि सभा का आयोजन किया गया। ग्राम पंचायत प्रांगण में रखी गई श्रद्धांजलि सभा में खाजूवाला के जन प्रतिनिधियों, प्रबुद्ध नागरिकों और युवाओं ने शोक संतृप्त माहौल में शहीद जवानों का श्रद्धाजंलि अर्पित कर दो मिनट का मौन धारण किया।

बॉर्डर पर अलर्ट, किसी भी स्थिति से निपटने के तैयार जवान

इधर, जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर हुए आंतकी हमले के बाद भारत-पाकिस्तान के बीच एक बार फिर तनातनी का माहौल बन गया है। हालांकि राजनयिक स्तर पर इसका असर नहीं है, लेकिन सीमाओं पर इसका असर देखा जा सकता है। तनाव को देखते हुए पश्चिम राजस्थान में भी बीकानेर समेत जैसलमेर, बाड़मेर, श्रीगंगानगर से लगती पाक सीमा पर चौकसी बढ़ा दी गई। सुरक्षा के लिहाल से सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने मुस्तैदी से मोर्चा संभाल लिया है और किसी भी स्थिति से निपटने के लिये पूरी तैयार है। खुफियां एजेंसिया भी पूरी तरह चौकस है। सीमापार पाक सेना की हर गतिविधि पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है। सेना और सीमा सुरक्षा बलों की तमाम बटालियनों को अलर्ट कर दिया गया है।

बीकानेर जेल से निकल रही हथियारों की ‘सुरंग’!, जांच में ऐसे हुआ खुलासा…

सेना को पूरी छूट, शहीदों की एक-एक बूंद की कीमत लेकर रहेंगे : मोदी