भाटी समर्थकों के विरोध का अखाड़ा बनी पानी की टंकियां

1065

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। पूर्व मंत्री एवं भाजपा के कद्दावर नेता देवीसिंह भाटी के चुनाव नहीं लडऩे के ऐलान के बाद उनके समर्थकों में पानी की टंकी पर चढऩे की मानो होड़ लग गई है। दो दिन पहले जहां राववाला में दो जने टंकी पर चढ़ गए, वहीं बुधवार शाम देशनोक में भी दो जने पानी की टंकी पर जा चढ़े। इस दौरान उन्होंने ‘देवीसिंह भाटी जिंदाबाद..’, ‘भाटी तुम संघर्ष करो, हम तुम्हारे साथ है…’ सरीखे नारे भी लगाए। करीब पौन घंटे तक चली समझाइश के बाद हालांकि दोनों जने वापस नीचे उतर गए। टंकी पर चढऩे वालों में एक वर्तमान भाजपा पार्षद है, वहीं दूसरा पूर्व पार्षद है।

जानकारी के अनुसार देशनोक निवासी भाजपा पार्षद भगवान दास उर्फ हाथी (40) पुत्र नैणदान चारण तथा पूर्व पार्षद चैनाराम सेवग (50) पुत्र मघाराम शाम करीब छह बजे यहां पानी की टंकी पर चढ़ गए। इसकी सूचना मिलने पर नगरपालिका अध्यक्ष कानाराम घूघरवाल, तहसीलदार धूडऩाथ सिद्ध, देशनोक थानाप्रभारी रजीराम चौधरी सहित अन्य मौके पर पहुंच गए। इन सभी ने दोनों को टंकी से नीचे उतरने के लिए काफी देर तक समझाइश की, तब जाकर वे नीचे उतरे। थानाप्रभारी रजीराम चौधरी ने बताया कि दोनों ने टंकी से उतरने के बाद कहा कि वे भाटी के चुनाव नहीं लडऩे के ऐलान को लेकर आहत थे और भावना में बहकर उन्होंने टंकी पर चढऩे का निर्णय कर लिया। आइंदा ऐसी घटना की पुनर्रावृत्ति नहीं करेंगे।

उल्लेखनीय है कि दो दिन पहले बज्जू थानान्तर्गत गांव राववाला में आसुराम नायक (५०) और कालू खां (22) भी भाटी के चुनाव नहीं लडऩे के ऐलान से आहत होकर पानी की टंकी पर चढ़ गए थे। इसकी सूचना मिलने पर वे मय जाब्ता मौके पर पहुंच गए समझाइश करके उन्हें टंकी से नीचे उतार दिया। पूर्व मंत्री देवीसिंह भाटी पिछले चार वर्षों में कई बार आगामी विधानसभा चुनाव नहीं लडऩे का ऐलान कर चुके है। हाल में बीकानेर में प्रेस वार्ता के दौरान भी उन्होंने अपना यह ऐलान दोहराया। उन्होंने साफतौर पर कहा कि अब वे चुनाव नहीं लड़ेंगे, लेकिन राजनीति के माध्यम से वे जनसेवा में पूर्व की तरह जुटे रहेंगे।

 

…तब जाकर आधी रात को टंकी से नीचे उतरे भाटी समर्थक