किसानों को राहत, फसल खरीद सीमा बढ़ाई

361
good news logo
good news logo

जयपुर (अभय इंडिया न्यूज)। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे के प्रसासों से भारत सरकार ने किसान से एक दिन में अधिकतम 25 क्विंटल के बजाय 40 क्विंटल सरसों एवं चना की समर्थन मूल्य पर खरीद किये जाने की अनुमति दे दी है। मुख्यमंत्री राजे द्वारा 25 क्विंटल की तुलाई सीमा के कारण किसानों को हो रही परेशानी को दूर करने के लिये भारत सरकार से एक दिन में 25 क्विंटल की खरीद सीमा को बढ़ाने का आग्रह किया गया था। यह जानकारी सहकारिता मंत्री अजय सिंह किलक ने गुरूवार को दी।

किलक ने बताया कि अब किसानों से सरसों एवं चना की एक दिन में 40 क्विंटल तक खरीद हो सकेगी। उन्होंने बताया कि इस निर्णय से किसानों को अपनी उपज को बेचने के लिये दूसरे दिन का इन्तजार नहीं करना पड़ेगा। सहकारिता मंत्री ने बताया कि समर्थन मूल्य पर खरीद के लिये शुरू की गयी ऑनलाइन पंजीयन सुविधा के प्रति किसानों में भारी उत्साह है और अब तक 3 लाख 10 हजार से अधिक किसानों द्वारा ऑनलाइन पंजीयन करवाया गया है। उन्होंने बताया कि राज्यमें सरसों के 217, चना के 184 तथा गेहूं के 90 केन्द्रों के जरिये समर्थन मूल्य पर खरीद की जा रही है और अबतक 180 करोड़ रुपये से अधिक की उपज की खरीद की जा चुकी है।

भण्डारगृहों में रोजाना उपज को जमा करायें

प्रमुख शासन सचिव, सहकारिता अभय कुमार ने समर्थन मूल्य पर खरीद व्यवस्था की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को निर्देश दिये कि राज्य में रोजाना बदल रहे मौसम के मद्देनजर प्रतिदिन होने वाली खरीद को भण्डारगृहों में जमा कराया जाना सुनिश्चित किया जाये। इसमें किसी प्रकार की कोताही नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इसके लिये समर्थन मूल्य की जा रही खरीद वाले 18 जिलों के इकाई उप रजिस्ट्रारों को वाहन की सुविधा दी जायेगी।

किराये पर ले सकेंगे वाहन

कुमार ने बताया कि ऐसे जिलों के इकाई उप रजिस्ट्रार राज्य सरकार के नियमानुसार वाहन किराये पर लेने के लिये अधिकृत होंगे। उन्होंने बताया कि इस व्यवस्था से खरीद केन्द्रों पर अधिक जगह उपलब्ध होने से उपज तुलाई में सुविधा होगी। राजफैड की प्रबंध निदेशक डॉ. वीना प्रधान ने बताया कि मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे द्वारा किसानों से समर्थन मूल्य पर सुगम एवं त्वरित खरीद करने के दिये निर्देशों को अमलीजामा पहनाने के लिये मेरे द्वारा कोटा संभाग के केन्द्रों का दौरा किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि संभाग में सभी केन्द्रों पर व्यवस्थाओं को चाक-चौबन्द करने के लिये खरीद केन्द्र प्रभारियों को पाबन्द कर दिया गया है।

एडमिक्सचर की समस्या हुई दूर

डॉ. प्रधान ने बताया कि कोटा संभाग में चना खरीद में एडमिक्सचर की समस्या आ रही थी जिसके कारण चना भण्डारगृहों में जमा नहीं हो पा रहा था, अब इसे दूर कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि अब तेजी से चना को भण्डार गृहों में जमा कराया जा सकेगा तथा खरीदी गई उपज सुरक्षित रह सकेगी।