Thursday, May 23, 2024
Hometrendingराजस्‍थान : कोयला की कमी के कारण एक भी यूनिट बंद नहीं,...

राजस्‍थान : कोयला की कमी के कारण एक भी यूनिट बंद नहीं, 1620 मेगावाट विद्युत उत्पादन आरंभ

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

जयपुर Abhayindia.com राज्य विद्युत उत्पादन निगम की कोयला की कमी के कारण एक भी यूनिट बंद नहीं है। तकनीकी कारणों से बंद इकाइयों में से 1120 मेगावाट क्षमता की तीन इकाइयों में शनिवार सुबह विद्युत उत्पादन आरंभ हो गया हैं, वहीं 500 मेगावाट क्षमता के दो तापीय विद्युत गृहों में शनिवार रात तक विद्युत उत्पादन आरंभ हो जाएगा।

अतिरिक्त मुख्य सचिव ऊर्जा डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि समग्र प्रयासों से राज्य में विद्युत आपूर्ति को सामान्य स्तर पर पहुंच चुकी है। शनिवार को विशेष परिस्थितियों में ही ग्रामीण क्षेत्र में आधे घंटे बिजली कटौती की संभावना है वहीं ऎसे प्रयास किए जा रहे हैं कि रविवार को प्रदेश में बिजली की कटौती की संभावना न हो।

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व ऊर्जा राज्य मंत्री भंवर सिंह भाटी बिजली की उपलब्धता पर नजर रखे हुए हैं। कोयला संकट के प्रति मुख्यमंत्री की गंभीरता को इसी से समझा जा सकता है कि गुरुवार 25 मार्च को ही मुख्यमंत्री गहलोत ने ऊर्जा राज्य मंत्री भंवर सिंह भाटी व अधिकारियों के साथ रायपुर जाकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री से राज्य को आवंटित कोल ब्लॉक्स में कोयला खनन की अनुमति शीघ्र जारी कराने के लिए सकारात्मक चर्चा की है।

अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. अग्रवाल ने बताया कि मुख्यमंत्री गहलोत के निर्देशों से केन्द्र सरकार से उच्च स्तर पर समन्वय बनाते हुए शनिवार को ही एनटीपीसी की दादरी इकाई से 179 मेगावाट विद्युत की अतिरिक्त आपूर्ति आरंभ करवाई गई है। राज्य में तकनीकी कारणों से बंद इकाइयों में बिजली का उत्पादन जल्द से जल्द शुरू कराने के प्रयास किए जा रहे हैं। शनिवार को ही पांच इकाइयों में उत्पादन शुरू करवाया गया है। उन्होंने बताया कि अड़ानी की कवाई की दोनों इकाइयों में उत्पादन हो रहा है। इसी तरह से राजवेस्ट की 8 इकाइयों में से 5 इकाइयों में उत्पादन जारी है और तकनीकी कारणों से बंद 3 इकाइयों में भी जल्दी ही उत्पादन शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं।

डॉ. अग्रवाल ने बताया कि राज्य में कोल ब्लॉक्स से कोयला की आपूर्ति को बनाए रखने के समग्र व समन्वित प्रयासों का ही परिणाम है कि पिछले दस दिनों से राज्य में कोल इंडिया व केप्टिव माइन से औसत 22.8 रैक प्रतिदिन आपूर्ति हो रही है। उन्होंने बताया कि 23 मार्च को अधिकतम 27 रैक की आपूर्ति हुई वहीं 25 मार्च को 22 रैक रवाना हुई है। उन्होंने बताया कि कोयला की आपूर्ति में व्यवस्था को बनाए रखने के साथ ही प्रदेश में निर्बाध विद्युत आपूर्ति के प्रयास किए जा रहे हैं।

चेयरमैन डिस्काम्स भास्कर ए सावंत ने बताया कि राज्य में स्थापित नवेली निग्नाइट की 250-250 मेगावाट की दो इकाइयों में से एक में उत्पादन हो रहा है और दूसरी इकाई में भी मंगलवार तक पुनः उत्पादन शुरू कराने के प्रयास किए जा रहे हैं।

विद्युत उत्पादन निगम के सीएमडी आरके शर्मा ने बताया कि राज्य विद्युत उत्पादन निगम की सूरतगढ़ की दो और कोटा की एक इकाई में 1120 मेगावाट बिजली का उत्पादन शुरू हो गया है। इसी तरह से 250-250 मेगावाट क्षमता की सूरतगढ की दो इकाइयों में शनिवार रात तक उत्पादन आरंभ होने की संभावना है। उन्होंने बताया कि विद्युत उत्पादन निगम की इकाइयों के साथ ही प्रदेश की अन्य इकाइयों में भी विद्युत उत्पादन की लगातार समीक्षा की जा रही है।

मिशन-2023 से पहले वसुंधरा का “मिशन-मुलाकात” शुरू, तीन दिन में तीसरी बार होगी मोदी से मुलाकात…!

राजस्‍थान : 1012 पदों के लिए भर्ती प्रक्रिया शुरू, 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन…

बीकानेर : अगले पांच दिनों में यह रहेगा मौसम का मिजाज, किसानों के लिए यह रहेगा असर…

कब है हिन्‍दू नव वर्ष? जानिये- शुभ मुहूर्त और सूर्य के अर्घ्य की विधि…

राजस्‍थान : दो दिन हीट वेव का अलर्ट, अचानक छलांग लाएगा पारा

बीकानेर : जग्‍गू को घर से बुलाकर ले गए और कर दिया मर्डर, पुलिस ने दो और आरोपी दबोचे

राजस्‍थान : सदस्‍य बनाने में पिछड़े, अब अभियान के लिए खुद मैदान में उतरेंगे सीएम गहलोत

राजस्‍थान के इस जिले में एक महीने के लिए धारा 144 लागू, फिल्म को लेकर…

दिल्‍ली-पंजाब के बाद अब राजस्‍थान में सक्रिय हुई आम आदमी पार्टी, अप्रेल में होगा ये सर्वे…

बीकानेर : नहरबन्दी के दौरान एक दिन के अंतराल से मिल सकेगा पेयजल, रेपिड रेस्‍पॉन्‍स टीम गठित

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad
Ad
- Advertisment -

Most Popular