राजस्‍थान में सियासी संग्राम तेज : गहलोत ने पायलट को कहा गद्दार, पलटवार में बोले झूठे आरोप ना लगाएं…

Ashok gehlot-Sachin Pilot
Ashok gehlot-Sachin Pilot

जयपुर Abhayindia.com राजस्‍थान में सियासी संग्राम तेज हो रहा है। एक निजी चैनल को दिए साक्षात्‍कार में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सचिन पायलट को गद्दार कह दिया तो इस पर सचिन पायलट ने पलटवार किया है। पायलट ने कहा कि झूठे आरोप ना लगाएं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत। राजनीति में उनके कद के नेता को ये बयान देना शोभा नहीं देता।

आपको बता दें इससे पहले मुख्‍यमंत्री गहलोत ने सचिन पायलट पर जमकर भड़ास निकाली। उन्होंने कहा कि 2020 में मानेसर में बीजेपी की मिलीभगत से राजस्थान में सरकार गिराने की साजिश में सचिन पायलट और उनके साथी विधायक शामिल थे जिन्हें बीजेपी से 5 से 10 करोड़ रुपए मिले थे।

वहीं, इसका जवाब देते हुए पायलट देते कहा कि पहले भी सीएम मुझे नकारा, निक्कमा और गद्दार कह चुके है, ये सब कहना उनके जैसे वरिष्ठ नेता के कद को घटाता है, हमें नहीं भूलना चाहिए उनके नेतृत्व में हम दो बार राजस्थान का चुनाव हारे भी है।

पायलट को ठहराया जिम्‍मेदार

एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजस्थान में कांग्रेस की सरकार गिराने के राजनीतिक प्रपंच के लिए ने पायलट को जिम्मेदार ठहराया और उन्हें बीजेपी का एजेंट तक बोला। उन्होनें कहा, 2020 में मानेसर में बीजेपी की मिलीभगत से राजस्थान की सरकार गिराने की साजिश में सचिन पायलट और उनके साथी विधायक शामिल थे जिन्हें बीजेपी से 5 से 10 करोड़ रुपए मिले थे। 25 सितंबर 2022 को राजस्थान सरकार में बागी हुए कांग्रेस विधायकों की बात पर सीएम बोले, ये बगावत मेरे खिलाफ नहीं थी। यह सचिन पायलट के खिलाफ थी। पायलट लगातार सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं और साल 2020 में सरकार बचाने वाले 90 विधायक पायलट के इस षडंयत्र के खिलाफ थे।

गहलोत इस बात से ज्यादा आहत नजर आए की साल 2009 में मेरी सिफारिश से केन्द्र में मंत्री बने पायलट उनके खिलाफ साजिश कर रहे है। गहलोत इस वक्त गुजरात चुनाव में व्यस्त है लेकिन आए दिन पायलट कैंप के नेता सरकार के खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं जो किसी भी सरकार और पार्टी की सेहत के लिए ठीक नहीं है।