धरनास्‍थल पर बढ़ रही जनभागीदारी : पूर्व मंत्री भाटी ने कहा- गायों के वोट नहीं लगते लेकिन गाय आम हिंदुस्तानी के दिल में बसती है

Devi Singh Bhati
Devi Singh Bhati

बीकानेर Abhayindia.com गोचर, ओरण व चारागाह की जमीन पर कब्जों को नियमित करने के राज्य सरकार के फैसले के बाद से बीकानेर में पूर्व मंत्री देवी सिंह भाटी सरह नथानिया गोचर भूमि में धरने पर बैठे हैं। धरना स्थल पर दिनोंदिन जनभागीदारी बढ़ रही है। गाय के जयघोष से गोचर दिनभर गूंजती है। धरना स्थल पर संतों का आगमन हो रहा है। वहीं, भजन कीर्तन व वैदिक मंत्रोच्चार सहित अनेक धार्मिक गतिविधियां चल रही है। आज जोधपुर लोहावट से आए बाबू पुरी ने धरना स्थल पर वाणी गाई व बाबा रामदेव की कथा का वाचन किया। मुंबई से आई श्यामा रंगा एवं पार्टी ने गाय पर भजनों की प्रस्तुति दी। भजन प्रस्तुति में श्यामा रंगा के साथ सुमित्रा पारीक, परमेश्वरी राजपुरोहित, सायरा बाईसा सोहन कंवर, प्रेम बाई व गोमती सहित महिलाओं ने भजनों से वातावरण को भक्तिमय कर दिया।

भाटी के प्रवक्ता वांठिया ने बताया कि आज धरना स्थल पर पूर्व संसदीय सचिव व विधायक खाजूवाला डॉ. विश्वनाथ मेघवाल धरना स्थल पर पहुंच कर धरने को समर्थन किया। इस मौके पर डॉ. विश्वनाथ ने कहा कि गौ हमारी राष्ट्र धरोहर है। इसकी भूमि की रक्षा करना हमारा दायित्व बनता है। वर्तमान में भाटी द्वारा दिया जा रहा धरना एक पुनीत कार्य हैं मैं भी साथ हूँ। भाटी के प्रवक्ता सुनील बांठिया ने बताया गुरुवार को गंगा शहर के ऋषभदेव प्राकृतिक प्रोडक्ट्स द्वारा नौ जड़ी बूटियों से निर्मित गायों के लिए बनाए गए विशेष प्रोडक्ट गो आहार लड्डू से निर्मल बरडिया झंवर गहलोत महेंद्र जोशी विजय कोचर ने पूर्व मंत्री भाटी को तोलकर वह लड्डू गोचर की गायों को खिलाए गए।

इस अवसर पर उपस्थित जनसमुदाय को संबोधित करते हुए पूर्व मंत्री भाटी ने कहा गोचर की जमीन पर पट्टे काटने के अव्यवहारिक निर्णय लेकर राज्य की कांग्रेस सरकार सिर्फ वोट बैंक की राजनीति कर रही है। गायों के वोट नहीं लगते लेकिन गाय आम हिंदुस्तानी के दिल में बसती है। इस कारण इस निर्णय से फायदा कम नुकसान ज्यादा है। भाटी ने कहा सरकार के इस निर्णय से पूरा इकोसिस्टम ही बदल जाएगा जिसके दूरगामी परिणाम समय रहते इस निर्णय को वापस नहीं लिया तो वे आमरण गुरुवार को भाजपा पार्षद सुधा आचार्य सहित अनेक जनप्रतिनिधियों ने धरना स्थल पर आकर धरने का समर्थन किया।

बांठिया ने बताया वन निक डिवाइन इंडिया यूथ एसोसिएशन के धनंजय सारस्वत हिमांशु सारस्वत तरुण राठी दिनेश जावा वैभव सारस्वत इसरार खान कैलाश मेघवाल रोहित धवन सहित अनेक युवाओं ने धरना स्थल पर पहुंचकर पूर्व मंत्री देवी सिंह भाटी के धरने का समर्थन किया। स्थल पर हनुमान गोशाला कानासर के अजरानंद महाराज ने धरना स्थल पर पहुंचकर भाटी को आशीर्वाद दिया। उन्‍होंने भाटी को विश्वास दिलाया कि उनके इस आंदोलन में संत समाज खुलकर उनके साथ है। ग्रामीण क्षेत्र से भी भाटी के धरने को जबरदस्त समर्थन मिल रहा है। आज धरने पर अक्कासर के पूर्व सरपंच धर्माराम पूर्व सरपंच अक्षय सिंह सिंजगुरु भुपेंद्र सिंह कक्कु जेठाराम कुम्हार पूर्व सरपंच गजनेर सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी जीवन राम विश्नोई कमल किशोर पारीक विजय सिंह चावडा जितेंद्र शर्मा गजनेर रमेश मोदी सुरजाराम करमीसर पर्व सरपंच खीवसिंह भाटी, नारायणदान शेरूवाला , चांदसिंह राजवी , सुनील बिश्नोई बज्जू , दिलीप सिंह नाल , सेवानिवृत तहसीलदार अमरसिंह , गिरधारीसिंह खिन्दासर सहित सैकड़ों ग्रामीणों ने धरना स्थल पर पहुंचकर भाटी के इस पुनीत यज्ञ में अपनी उपस्थिति की आहुति दी।

इसी तरह अनिश्चित कालीन धरने के समर्थन में आज जीव रक्षा संस्था बीकानेर के जिलाध्यक्ष मोखराम धारणियां, महासचिव रामकिशन डेलू व अन्य पदाधिकारियों के साथ भाटी द्वारा दिये जा रहे धरने का समर्थन किया तथा मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर इस अध्यादेश को जनहित में तुरन्त वापिस लेने का कहा। वही डाईविन इण्डिया यूथ एसोसियेशन के जिलाध्यक्ष धंनज्य सारस्वत के साथ संस्था के पदाधिकारी एश्वर्य पुरोहित, तरूण राठी, प्रसान्त डांगी, हिमांशु, वैभव सारस्वत, संजय पुरोहित, जितेश जावा, राकेश स्वामी, संजय कुमार, जयप्रकाश शर्मा, शौरभ जीनगर, अंकित सुथार, इमरान खान लाड सहित अनेक युवा पहुंचे। इंटैक बीकानेर चेप्टर के कनविनर पृथ्वीराज रतनू , सह कनविनर डॉ. नन्दलाल वर्मा, अरूण गुप्ता कोषाध्यक्ष सुनील बांठिया, मनमोहन कल्याणी, दिनेश सक्सैना, डॉ. शुक्ला बाला पुरोहित, डॉ. मंजूला बारठ, एम.एल. जांगिड़, .पीशर्मा, अरविन्द सिंह राठौड़, हिगलाज दान रतनू, डॉ. मनमोहन यादव, शान्तिलाल सेठिया आदि सदस्यों ने वर्चुअल बैठक कर भाटी द्वारा विरासत की ऐसी धरोहरों को बचाये रखने के लिए किये जा रहे कार्यों की सराहना करते हुए अपना समर्थन भाटी को दिया।

पूर्व मंत्री भाटी को गौ आहार लड्डूओं से तौला