बीकानेर: रिश्वत के पौने दो साल पुराने मामले में बार-बार बदल रही जांच, परिवादी ने डीजी एसीबी से लगाई गुहार…

बीकानेर abhayindia.com प्रदेश में लाल फीताशाही हावी होती जा रही है। ऐसा एक मामला सामने आया जिसमें लाल फीताशाही के चलते रिश्वत के आरोपी को बचाने के लिए बार-बार जांच बदली जा रही है।

रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार किए गए पुलिस अधिकारी को बचाने के लिए बीते पौने दो साल में प्रकरण की तीन बार जांच बदली गई है। वहीं दूसरी ओर परिवादी पर राजनीतिक व सामाजिक दबाव डाला जा रहा है। हालात से परेशान परिवादी ने अब डीजी भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को पत्र लिख कर कार्रवाई आगे बढ़ाने की गुहार लगाई है।

यह है मामला…

परिवादी पन्नाराम जाट की ओर से महानिदेशक भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो, राजस्थान को भेजे गए पत्र के अनुसार 26 जुलाई, 2019 को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो, बीकानेर चौकी ने नोखा के तत्कालीन सीओ महमूद खान को 50 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया था। उसके बाद से ही रिश्वतखोर अधिकारी को बचाने की कोशिशें की जा रही है। बीते पौने दो साल में परिवादी पन्नाराम पर रसूखदारों ने राजनीतिक और सामाजिक दबाव डाला जा रहा है।

भ्रष्ट पुलिस अधिकारियों की पोल खोलने वाला परिवादी पन्नाराम सिस्टम से इतना परेशान हो गया कि उसने रेंज के आइजी के सामने पेश होकर व्यथा बताई, जिसकी जांच अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण सुनील कुमार के पास है। ब्यूरोकेसी इस कदर हावी है कि पुलिस ने अपने अधिकारी के खिलाफ अब तक चालान तक न्यायालय में पेश नहीं किया।

धरने की दी चेतावनी…

नोखा पुलिस थाना क्षेत्र स्थित एक गांव में रहने वाले जागरूक परिवादी पन्नाराम जाट ने आज पुलिस महानिदेशक, भ्रष्टाचार ब्यूरो, राजस्थान को पत्र लिखकर ब्यूरोक्रेसी की कारगुजारियों की जानकारी दी है। साथ ही उन्होंने रिश्वत लेने के आरोपी तत्कालीन नोखा सीओ महमूद खान के खिलाफ इस प्रकरण में न्यायालय में तुरन्त प्रभाव से चालान पेश करवाने की मांग भी की है। यह मांग पूरी नहीं होने की स्थिति में धरना लगाने की चेतावनी भी दी है।

यह था मामला…

जानकारी के अनुसार वर्ष, 2019 की 24 जुलाई को दहेज हत्या के मामले में आरोपी को गिरफ्तार करने की एवज में नोखा के तत्कालीन सीओ महमूद खान ने परिवादी से दो लाख रुपए की रिश्वत राशि की मांग की थी। परिवादी पन्नाराम ने इसकी शिकायत भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो, बीकानेर चौकी में इसकी शिकायत की थी। उसका सत्यापन करवाए जाने के बाद 26 जुलाई, 2019 को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रजनीश पूनिया के नेतृत्व में टीम ने नोखा के तत्कालीन सीओ महमूद खान को परिवादी से 50 हजार रुपए की रिश्वत राशि लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया था।

SHARE