चिंतन शिविर में राहुल गांधी ने कहा- जनता के बीच जाना होगा, पसीना बहाना होगा…

Rahul Gandhi
Rahul Gandhi

उदयपुर Abhayindia.com उदयपुर में आयोजित हो रहे अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी के नवसंकल्‍प शिविर में रविवार को अंतिम दिन राहुल गांधी ने संबोधित किया। उन्‍होंने कहा कि हमें बिना सोचे जनता के बीच जाकर बैठ जाना चाहिए। उनकी समस्‍याओं को समझना होगा। उनके साथ जो कनेक्‍शन पहले होता था, वहीं, कनेक्‍शन फ‍िर से बनाना होगा। जनता समझती है कि कांग्रेस पार्टी ही ये काम कर सकती है और पार्टी ही देश को आगे ले जा सकती है। पार्टी ने ये निर्णय लिया है कि पार्टी जनता के बीच जाएगी, यात्रा करेगी और जो जनता से रिश्‍ता है, वह मजबूत करेगी। इसका कोई शॉटकर्ट नहीं है। इसके लिए पसीना बहाना होगा। यही हमारा डीएनए है।

उन्‍होंने कहा कि ये लोग नफरत फैलाते हैं, हिंसा फैलाते हैं। हमारे प्यारे देश में इतनी नफरत, इतना क्रोध और हिंसा कहां से आई। आज हमारे विरोध में बड़ी शक्तियां हैं, संस्थान दल, आरएसएस, भाजपा है, हम देश की सभी संस्‍थाओं से लड़ रहे हैं। हर कार्यकर्तानेता को कहता हूं कि घबराने की जरूरत नहीं है। मैं जिंदगी भर आपके साथ खड़ा हू और लड़ाई लड़ने जा रहा है। ये सच्‍चाई का देश है और देश सच्चाई को मानने वाला है। देश को बात समझ आ रही है। गांधी ने कहा, मैंने मेरी जिंदगी में भ्रष्‍टाचार नहीं किया, एक रूपए नहीं लिया। इसलिए सच्चाई बोलने से नहीं डरता। मैं इन शक्तियों से डरता नहीं हूं।

राहुल गांधी ने इससे पहले केन्‍द्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि जैसी चर्चा कांग्रेस के इस शिविर में हुई है उसे देखकर मैं सोच रहा हूं कि देश की ऐसी कौन सी पार्टी है, जिसमें ऐसे खुले तौर पर चर्चा और संवाद होता है। इतनी आजादी बीजेपी देगी क्‍या, कभी नहीं। जबकि आज आपसी संवाद से ही सब कुछ हल किया जा सकता है। आप या तो लोगों के बीच संवाद को चुनिए या फ‍िर लोगों के बीच हिंसा को। नोटबंदी, जीएसटी लाकर मोदी सरकार ने देश को परेशानी में धकेल दिया। एक तरफ आज देश में बेरोजगारी है तो दूसरी तरफ महंगाई है। इससे निपटना जरूरी है। हमें अपने को भी देखने की जरूरत है। यूक्रेन में युद्ध चल रहा है, इससे आने वाले समय में मुद्रास्‍फीति पर असर पड़े़गा।