खेल समीक्षक व्यास ‘रंगीला’ स्मृति प्रतियोगिता के विजेता पुरस्कृत

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज) खेल लेखक एवं समीक्षक स्व. झंवरलाल व्यासरंगीला’ की तेरहवीं पुण्यतिथि के अवसर पर श्रद्धांजलि सभा तथा शतरंज प्रतियोगिता के विजेताओं का पुरस्कार वितरण समारोह गुरुवार को नालंदा सीनियर सैकण्डरी स्कूल में आयोजित हुआ।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एच. डी. चारण थे। उन्होंने कहा कि आज के दौर में शतरंज जैसे खेलों को प्रोत्साहित करने की महत्ती आवश्यकता है। संस्था द्वारा किए जा रहे प्रयास सराहनीय है। उन्होंने टीवी और मोबाइल के दुष्प्रभाव बताए तथा कहा कि इससे बच्चे अंर्तमुखी होते जा रहा है, जो कि चिंता का विषय है। 

अध्यक्षता करते हुए राजस्थान शतरंज संघ के एडवोकेट एस. एल. हर्ष ने कहा कि रंगीला की स्मृति में शतरंज प्रतियोगिता करवाना उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि है। इससे छोटेछोटे बच्चों को अवसर मिलता है। विशिष्ट अतिथि डॉ. बी. एल. शर्मा ने कहा कि शतरंज अनुशासन का खेल है। खिलाडिय़ों को चाहिए कि वे सकारात्मक खेल भावना के साथ खेलें। राजस्थान साइक्लिंग संघ के रामनाथ आचार्य ने रंगीला के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि रंगीला ने खेल लेखन को नए आयाम दिए।

इससे पहले अतिथियों ने रंगीला के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम की शुरूआत की। प्रतियोगिता प्रभारी एडवोकेट जुगल किशोर व्यास ने प्रतियोगिता के प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। संस्था अध्यक्ष एडवोकेट बसंत आचार्य ने आभार जताया। इस अवसर पर दुर्गाशंकर आचार्य, खेल लेखक आत्माराम भाटी, मनोज व्यास, मनीष जोशी, अनिल बोड़ा, एडवोकेट भैरूरतन व्यास, गिरिराज व्यास, राजेश रंगा, राजेश आचार्य, सत्यनारायण आचार्य, मधुसूदन व्यास, विकास छंगाणी, रोहित व्यास, अनिरूद्ध आचार्य, विनीत व्यास सहित अनेक लोग मौजूद थे। 

इन्हें किया पुरस्कृत

कार्यक्रम के दौरान सबजूनियर वर्ग में आदित्य शर्मा, आदित्य जैन और जितेश मोदी, बालिका वर्ग में चंचल गिरि, दर्शिका गोस्वामी और वंशिका जैन, जूनियर वर्ग में राहुल व्यास, आदित्य पुरोहित एवं मधुसूदन व्यास तथा सीनियर वर्ग में शेर सिंह, कपिल पंवार और बीएल प्रजापत को पुरस्कृत किया गया। उदीयमान खिलाड़ी का पुरस्कार जयंत आचार्य को दिया गया। बाल शातिर के रूप में साढे चार वर्षीय विश्वेन्द्र रंगा और छह वर्षीया कृति व्यास एवं वेटरन खिलाड़ी के रूप में रामकिशोर चैधरी को पुरस्कृत किया गया। प्रतियोगिता के ऑर्बिटर रामकुमार, डी. पी. छींपा और सत्यनारायण करनाणी का सम्मान किया गया। वहीं सबजूनियर वर्ग के सभी प्रतिभागियों को पुरस्कार दिए गए। कार्यक्रम का संचालन हरिशंकर आचार्य ने किया।

पत्रकारिता के लिए जीवनपर्यंत सक्रिय रहे बजरंग शर्मा

बेरोजगारों के लिए आई अच्छी खबर, इस मंत्री ने कहा जल्द होगी भर्तियां