ज्ञानवापी और चिदंबरम के ठिकानों पर सीबीआई छापे और ज्ञानवापी को लेकर सीएम गहलोत ने केंद्र सरकार व बीजेपी पर बोला तीखा हमला…

Ashok Gehlot Chief Minister Rajasthan
Ashok Gehlot Chief Minister Rajasthan

जयपुर Abhayindia.com वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद मामले और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम के ठिकानों पर सीबीआई छापों को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार व भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा है कि क्या तमाशे हो रहे हैं देश में, अभी एक नया तमाशा शुरू कर देंगे वाराणसी में। 100 ऐसे स्थान होंगे, जहां ये कंट्रोवर्सी पैदा करेंगे। कब तक हिंदूमुस्लिम को लड़ाते रहेंगे। सदियों से साथ रहते आए हैं और सदियों साथ रहना है। आपको बता दें कि सीएम गहलोत मंगलवार को जयपुर में अल्बर्ट हॉल के सामने कांग्रेस सेवादल की आजादी गौरव यात्रा के कार्यक्रम में बोल रहे थे।

गहलोत ने कहा कि हमें अपनी बात कहने में हिचक नहीं होनी, हमने अपनी बात नहीं रखी तो इतिहास हमें भी माफ नहीं करेगा। हम अपनी विचारधारा पर अटल रहेंगे तो इतिहास में यह भी लिखा जाएगा कि कांग्रेस ने लोकतंत्र, सद्भाव को बनाए रखने में कमी नहीं रखी। गहलोत ने कहा कि पी. चिदंबरम से मैं तिहाड़ जेल में मिलकर आया था। आज चिदंबरम के फिर सीबीआई का छापा पड़ा है। सीबीआई, ईडी का दुरुपयोग हो रहा है। पॉलिटिकल क्राइसिस के वक्त हमारे छापे पड़ गए। धर्मेंद्र राठौड़ के छापा पड़ गया, पूरे देश में नाम गूंज गया, अरे भाई ये कोई उद्योगपति है क्या? जोधपुर में मेरे भाई के यहां छापा पड़ गया। सरकार गिराने का षड्यंत्र किया गया।

गहलोत ने कहा कि अमित शाह, धर्मेंद्र प्रधान और जोधपुर वाले शेखावत का सरकार गिराने का षड्यंत्र था। आज वह भागता फिर रहा है, वॉइस सैंपल नहीं दे रहा है। ओएसडी लोकेश शर्मा पर दिल्ली में केस कर दिया, दिल्ली पुलिस उनकी है। यह तो उल्टा चोर कोतवाल को डांटे वाली बात है। उनके तमाम मंसूबे फेल कर दिए। विधायकों ने साथ निभाया, वह मामूल बात नहीं है।

गहलोत ने बीजेपीआरएसएस को अंग्रेजों का जासूस बताते हुए कहाये लोग अंग्रेजों के मुखबिर थे। पार्लियामेंट में इस पर बहस हो चुकी। ये हमसे क्या बात करेंगे? ये हमसे क्या लोहा लेंगे? ये तो अंग्रेजों के लिए जासूसी करते थे। आप सीना तानकर राजनीति कीजिए।

गहलोत ने आरोप लगाते हुए कहा कि राजस्थान तो पीएम मोदी और अमित शाह के टारगेट पर है, इसलिए ये प्रचार करेंगे। इन्होने तो अभी से चुनाव का बिगुल बजा दिया है। इसीलिए छापेमारी शुरू कर दी है। राजस्थान में हमने तय किया है कि दंगा भड़काने वालों को बख्श नहीं सकते।