जहां रहते हैं सबसे ज्यादा नेता, वहीं अराजकता के हाल

318
जस्सूसर गेट के अंदर मूलचंद पारीक सर्किल के इर्द-गिर्द आवारा पशु और निर्माण सामग्री का डेरा। फोटो : क्षेत्र का जागरुक नागरिक।
जस्सूसर गेट के अंदर मूलचंद पारीक सर्किल के इर्द-गिर्द आवारा पशु और निर्माण सामग्री का डेरा। फोटो : क्षेत्र का जागरुक नागरिक।

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। बीकानेर के प्रमुख राजनेताओं के निवास वाले जस्सूसर गेट क्षेत्र में अराजकता के हाल बने हुए है। जस्सूसर गेट के अंदर और बाहर टूटी सड़क, उस पर पसरी निर्माण सामग्री, और स्थायी-अस्थायी अतिक्रमण के चलते लोगों का पैदल चलना भी मुश्किल हो रहा है। मूलचंद पारीक सर्किल के इर्द-गिर्द तो हालात सबसे ज्यादा बदतर बने हुए है।

कहने को तो क्षेत्र में एक पुलिस चौकी भी है, लेकिन उसका ताला कई वर्षों से नहीं खुला है। पुलिस द्वारा इस क्षेत्र को नजर अंदाज करने से इस क्षेत्र में गुंडा तत्वों की आवाजाही बढ़ गई है, इससे यहां के वाशिंदे डरे-डरे से रहते हैं। मूलचन्द सर्किल पर शाम के वक्त यहां दूध की मंडी सज जाती है। सड़क के मनचाहे स्थान पर लगने वाली इस मंडी से आवागमन प्रभावित हो रहा है। सर्किल के एक ओर जहां निर्माण सामग्री पड़ी हुई है, वहीं दूसरी ओर आवारा पशुओं का जमावड़ा रहता है। इसके चलते आए दिन हादसे हो रहे हैं।

नगर निगम की कार्यशैली का अंदाजा तो यहां भी लगता है की हाल ही में होलिका दहन स्थल पर ही निर्माण सामग्री बिखरी पड़ी थी। क्षेत्र के लोगों ने पार्षद से लेकर निगम के आला अधिकारियों तक गुहार लगाई लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। क्षेत्र के लोगों ने किसी तरह निर्माण सामग्री को हटाकर जैसे तैसे होलिका दहन की रस्म पूरी की। गौरतलब है कि क्षेत्र में एक निजी कॉलेज स्थापित है इस कारण यहां पर सैकड़ों छात्र छात्राओं की आवाजाही लगी रहती है। कई बार तो इन छात्रों को अपने वाहन रखने के लिए भी स्थान नहीं मिलता। क्षेत्र में दो बार गोलीबारी की घटना हो चुकी है लेकिन पुलिस अब भी किसी बड़े हादसे का इंतजार कर रही है।