दाती महाराज उर्फ मदन राजस्थानी भूमिगत, पीडि़ता के हुए बयान

691
दाती महाराज
दाती महाराज

नई दिल्ली/जयपुर। अपने ही आश्रम की शिष्या की ओर से लगाए गए यौन शोषण के आरोपों के बाद दाती महाराज उर्फ मदन राजस्थानी भूमिगत है। हालांकि पुलिस ने अभी दबिश का दौर शुरू नहीं किया है। बताया जा रहा है कि मामले की जांच दिल्ली क्राइम ब्रांच को सौंपी गई है। क्राइम ब्रांच कभी भी दाती महाराज के ठिकानों पर दबिश दे सकती है।

इधर, दाती महाराज ने एक अखबार से बातचीत में खुद को निर्दोष बताते हुए कहा है कि मैं न भागा हूं और ही भागूंगा। इस बीच पाली में सोजत रोड स्थित उनके आलावास आश्रम प्रबंधन ने कहा है कि बाबा का स्वास्थ्य ठीक नहीं है, वे शुक्रवार या शनिवार को दिल्ली आश्रम में आ सकते हैं। मामले के अनुसार बाबा के आश्रम में रहने वाली 25 वर्षीय शिष्या ने दिल्ली के फतेहपुर बेरी पुलिस थाने में दुष्कर्म का मामला दर्ज करवाया है। मंगलवार को दिल्ली पुलिस और कोर्ट में मजिस्ट्रेट के सामने बयान दर्ज कराए गए।

पीडि़ता ने बताया कि दाती महाराज ने उसके साथ यौन दुव्र्यवहार किया और इसके बाद आश्रम के लोगों ने उसे जान से मारने की धमकी दी। पीडि़ता ने पुलिस के सामने दिए गए बयान में कहा है कि 2005 में वह परिवार के साथ दाती महाराज के संपर्क में आई थी। इसके बाद वह आश्रम में ही रहने लगी और उसके पढ़ाई-लिखाई का खर्च दाती महाराज ही उठाने लगे। 9 जनवरी 2016 को चरण सेवा के नाम पर दाती महाराज ने उसके साथ यौन दुव्र्यवहार किया। उसके बाद उसी साल मार्च में लगातार तीन दिनों तक पाली के आश्रम में दाती महाराज ने दोबारा यौन दुव्र्यवहार किया। दाती महाराज के अलावा दो और शिष्यों ने भी उसके साथ यौन दुव्र्यवहार किया।

असली नाम मदन लाल

सूत्रों के अनुसार दाती महाराज का असली नाम मदन लाल है। पुलिस ने बाबा के खिलाफ आईपीसी की धारा 376, 377, 354 व 34 में मामला दर्ज किया है। एक दिन पूर्व बाबा ने ऑडियो वायरल कर खुद के खिलाफ साजिश होने की बात कही थी। बाबा राजस्थान से बाहर हो सकते हैं। इस बारे में दिल्ली पुलिस पता करने में जुटी हुई है। इस बीच पीडि़ता ने इसकी शिकायत महिला आयोग अध्यक्ष स्वाति जयहिंद से की। इस पर महिला आयोग ने पुलिस को निष्पक्ष जांच के लिए कहा है। वर्ष 2004 में स्थापित बाबा के आलावास आश्रम में लगभग पांच सौ से अधिक बालिकाएं अध्ययनरत है। यहां चारों ओर सीसीटीवी लगे हुए हैं और आश्रम की खुद की सुरक्षा टीम निगरानी के लिए लगा रखी है।