महर्षि, सैनी एवं राजपुरोहित को ‘कथा’ सम्मान 19 को

Shankar Singh Rajpurohit
Shankar Singh Rajpurohit

बीकानेर Abhayindia.com जोधपुर की ‘कथा’ साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्थान की ओर से इस वर्ष का ‘पारस अरोड़ा अपरंच राजस्थानी पत्रकारिता सम्मान डूंगरगढ़ के श्याम महर्षि तथा ‘सांवर दइया राजस्थानी कथा सृजन अलंकरण’ डूंगरगढ़ के ही कथाकार डॉ. मदन सैनी को दिया जाएगा। इसी प्रकार ‘डॉ. नारायणसिंह भाटी राजस्थानी अनुवाद अलंकरण’ से बीकानेर के साहित्यकार शंकरसिंह राजपुरोहित को नवाजा जाएगा।

Shyam Mahrishi
Shyam Mahrishi
Dr. Madan Saini
Dr. Madan Saini

संस्थान के संस्थापक सचिव मीठेश निर्मोही एवं निदेशक चैनसिंह परिहार ने बताया कि आगामी 19 दिसंबर को जोधपुर के होटल चन्द्राइन में आयोजित समारोह में ये अलंकरण दिए जाएंगे। शंकरसिंह राजपुरोहित को डॉ. नारायणसिंह भाटी राजस्थानी अनुवाद अलंकरण उनके द्वारा गुजराती से अनूदित रघुवीर चौधरी के तीन खंडों के वृहद् उपन्यास ‘उपरवास कथात्रयी’ के राजस्थानी अनुवाद के लिए दिया जाएगा। यह अनूदित कृति साहित्य अकादेमी, नई दिल्ली ने प्रकाशित की है। इसी प्रकार राजस्थली के संपादक श्याम महर्षि एवं कथाकार डॉ. मदन सैनी को उनके समग्र राजस्थानी कथा लेखन एवं संपादन के लिए यह सम्मान दिया जाएगा।

कथा संस्थान के संस्थापकसचिव एवं साहित्यकार मीठेश निर्मोही ने बताया कि समारोह की अध्यक्षता जानेमाने पत्रकारसाहित्यकार और हरदेव जोशी पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय जयपुर के कुलपति डॉ. ओम थानवी करेंगे। नगर निगम (उत्तर ) जोधपुर की महापौर कुन्ती देवड़ा स्वागताध्यक्ष होंगी। राजस्थानी के जानेमाने साहित्यकार और राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय, नई दिल्ली के उपाध्यक्ष प्रोफेसर डॉ. अर्जुनदेव चारण मुख्य अतिथि होंगे।

उन्होंने बताया कि कथा संस्थान की राज्यस्तरीय अलंकरण श्रृंखला के अंतर्गत इस वर्ष हिन्दी एवं राजस्थानी के प्रख्यात साहित्यकार तथा दूरदर्शन के पूर्व निदेशक नंद भारद्वाज (बाड़मेरजयपुर) को राजस्थानी एवं हिन्दी में कविता, कथा, आलोचना एवं अनुवाद विधाओं में विशिष्ट सर्जना के लिए ‘सूर्यनगर शिखर सम्मान’, हिन्दी के सुप्रतिष्ठ कवि कैलाश मनहर (जयपुर) को उनके श्रेष्ठ कविता संग्रह ‘उदास आंखों में उम्मीद’ के लिए ‘नन्द चतुर्वेदी कविता सम्मान’, हिन्दी के सुप्रतिष्ठ कथाकार रत्नकुमार सांभरिया (जयपुर) को हिन्दी में विशिष्ट कथा सर्जना के लिए ‘पंडित चन्द्रधर शर्मा गुलेरी कथा सम्मान’, हिन्दी के ही सुप्रतिष्ठ कथाकार मुरलीधर वैष्णव (जोधपुर) को हिन्दी में विशिष्ट कथा सर्जना (कहानी, लघुकथा एवं बाल कथा) के लिए ‘रघुनंदन त्रिवेदी कथा सम्मान’ से अलंकृत किया जाएगा। इसी तरह राजस्थानी के ख्यातनाम कवि एवं अनुवादक डॉ. उम्मेद गोठवाल (चूरू) को उनके श्रेष्ठ कविता संग्रह ‘पेपलौ चमार’ के लिए ‘सत्यप्रकाश जोशी कविता सम्मान’ तथा उर्दू के सुप्रतिष्ठ शाइर एवं अनुवादक डॉ. निसार राही ( जोधपुर) को उनके श्रेष्ठ उर्दू कविता संग्रह ‘आस्मां अहसास’ के लिए ‘मख़्मूर सईदी कविता सम्मान’ से अलंकृत किया जाएगा।