लोकसभा चुनाव : राजस्थान में 14 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम लगभग तय, बाकी पर घमासान अभी जारी…

जयपुर (अभय इंडिया न्यूज)। लोकसभा चुनाव 2019 के लिए प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी 14 सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम लगभग तय कर लिए हैं, जबकि 11 सीटों पर अब भी पेंच फंसा हुआ है। इन सीटों पर दबाव की राजनीति के चलते पार्टी उलझन में है। जिन सीटों पर पेंच फंसा हुआ है, उनमें बाड़मेर-जैसलमेर, भरतपुर, श्रीगंगानगर, जयपुर शहर, चूरू, धौलपुर-करौली, दौसा, सीकर, अलवर, टोंक-सवाई माधोपुर और अजमेर सीट शामिल हैं। इन्हीं में से तीन सीटें अजमेर, अलवर और दौसा ऐसी हैं, जिनमें भाजपा के सांसद नहीं हैं। पार्टी को इन सीटों पर नामों को अंतिम रूप देने के लिए लगातार बैठकें करनी पड़ रही है।

इन्हें मिल सकता है फिर मौका…

पार्टी अपने 14 सांसदों को इस बार भी चुनाव मैदान में उतारने का मानस लगभग बना चुकी है। इनमें बीकानेर से अर्जुनराम मेघवाल, बांसवाड़ा से मान शंकर निनावा, झालावाड़ से दुष्यंत सिंह, भीलवाड़ा से सुभाष बहडिय़ा, चित्तौडग़ढ़ से चंद्रप्रकाश जोशी, जयपुर ग्रामीण से राज्यवर्धन सिंह राठौड़, जालोर सिरोही से देवजी पटेल, कोटा से ओम बिड़ला, नागौर से सी. आर. चौधरी, पाली से पी. पी. चौधरी, झुंझुनूं से संतोष अहलावत, उदयपुर से अर्जुन लाल मीणा, राजसमंद हरिओम सिंह राठौड़ और जोधपुर से गजेंद्र सिंह शेखावत का नाम लगभग तय है।

यह भी हो रहा विचार…

जिन 14 सीटों पर नाम तय माने जा रहे हैं उनमें से कुछ सीट पर तो राजनीतिक भूचाल आया हुआ है। भाजपा से अलग हुए दिग्गज नेता देवी सिंह भाटी के विरोध के चलते केन्द्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल की सीट बदलकर उन्हें श्रीगंगानगर से लड़ाने पर विचार किया जा रहा है। इसी तरह केन्द्रीय मंत्री सी. आर. चौधरी की भी सीट बदलने की चर्चा है। उनका नाम नागौर के अलावा अजमेर लोकसभा सीट से भी चर्चा में है। पाली सांसद व केंद्रीय मंत्री पी. पी. चौधरी के खिलाफ भी उनकी ही पार्टी में विरोध होने लगा है।

By_ Suresh Bora

लोकसभा चुनाव : केवल वोटर स्लिप नहीं होगी पहचान का आधार, इन 11 दस्तावेजों में से….

फागणिया फुटबॉल मैच में कलाकारों ने होली के रसिकों को ऐसे रिझाया…