दलालों के मार्फत रिश्‍वत की रकम वसूलता था फाइनेंस एडवाइजर, एसीबी ने दबोचा

acb
acb

जयपुर Abhayindia.com भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) की टीम ने नगर निगम ग्रेटर, जयपुर के फाइनेंस एडवाइजर अचलेश्वर मीणा को दो दलालों के मार्फत ठेकेदारों से रिश्वत की रकम वसूलने के मामले में गिरफ्तार किया गया है। एसीबी ने इस मामले में फाइनेंस एडवाइजर के साथ दोनों दलालों को भी ट्रेप किया है। इनमें एक दलाल के घर से 27 लाख रुपए नकद, करीब 10 से ज्यादा एग्रीकल्चर लैंड के दस्तावेज बरामद किए गए है। एसीबी की विशेष अनुसंधान इकाई के प्रभारी एडिशनल एसपी बजरंग सिंह शेखावत के नेतृत्व में यह कार्रवाई की गई।

एसीबी के डीजी बीएल सोनी ने बताया कि रिश्वत लेने के मामले में गिरफ्तार आरोपी अचलेश्वर मीणा नगर निगम ग्रेटर, जयपुर में वित्तीय सलाहकार है। इसके अलावा धनकुमार जैन और अनिल अग्रवाल को दलाली करते पकड़ा है। ये दोनों नगर निगम में बड़े कांट्रेक्टर है।

एसीबी की ओर से की गई शुरूआती जांच में सामने आया कि नगर निगम, ग्रेटर, जयपुर में विभिन्न कार्यों के टेण्डर देने से लेकर कार्यों के निरीक्षण, माप तथा बिल पास करने और उनका भुगतान करने की एवज में सम्बंधित फर्म और ठेकेदारों से बतौर कमीशन रिश्वत वसूलते थे। आरोपी अचलेश्वर मीणा यह रकम दोनों दलालों के माध्यम से अन्य ठेकेदार फर्मों से वसूलता था।

आपको बता दें कि एसीबी मुख्यालय को रिश्वत के इस खेल की करीब तीन महीने पहले शिकायत मिली थी। इसकी जांच एएसपी बजरंग सिंह शेखावत को सौंपी गई। करीब तीन महीने से अचलेश्वर मीणा व दोनों दलालों सहित अन्य अफसरों के मोबाइल फोन सर्विलांस पर थे। शिकायत का सत्यापन किया गया। शुक्रवार को एसीबी को खबर मिली कि ठेकदारों से इकट्‌ठा की गई रकम को धनकुमार जैन वित्तीय सलाहकार अचलेश्वर मीणा को सौंपने वाला है। तब एसीबी ने शुक्रवार सुबह से पीछा करना शुरू किया। अचलेश्वर व धन कुमार जैन दोनों ही एक जगह पर मिले। तब उनके हाथ में एक बैग था