फर्जी हथियार लाइसेंस मामला : आरोपी राउण्डअप, चौंकाने वाले नाम आएंगे सामने

pistal logo
pistal logo

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। नागालैण्ड एवं जम्मू-कश्मीर से फर्जी हथियार लाइसेंस बनवाने वालों के खिलाफ जिला पुलिस अब हरकत में आ गई है। पुलिस ने छह आरोपियों को राउण्ड अप कर लिया है। पुलिस जल्द ही इनके नाम भी सार्वजनिक करेंगी। सूत्रों की मानें तो इसमें चौंकाने वाले नाम भी सामने आ सकते हैं।

फिलहाल पुलिस इनसे पूछताछ में कई तथ्य जुटाने में लगी है। नयाशहर थाना प्रभारी बहादुर सिंह ने बताया कि फर्जी हथियार लाईसेंंस प्रकरण में जिला पुलिस अधीक्षक सवाई सिंह गोदारा के निर्देश पर ढाई सौ के करीब लोगों को चिन्हित किया गया है। इस मामले में दीमापुर मजिस्ट्रेट ने बीकानेर के 16 जनों के लाइसेंस अस्थाई निलंबित करते हुए जवाब-तलब किया था। इस पर कई जनों ने दीमापुर मजिस्ट्रेट के समक्ष अपना स्पष्टीकरण भी प्रस्तुत कर दिया, जिन लोगों ने स्पष्टीकरण नहीं दिया है उन्हे गिरफ्तार कर लाईसेंस और हथियार जब्तगी की कार्यवाही कर आम्र्स एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

गौरतलब है कि फर्जी लाईसेंसी हथियारों का मामला मीडिया की सुर्खियों में आने के बाद करीब छह माह पहले नयाशहर थाना पुलिस ने आधा दर्जन जनों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया था। इसके बाद जांच पड़ताल के लिये पुलिस की विशेष टीम नागालैण्ड भी गई थी। इस बीच पिछले माह नागालैंड ऑफिस ऑफ दी कमिश्नर ऑफ पुलिस दीमापुर एक आदेश जारी कर बीकानेर के 21 जनों के आम्र्स लाइसेंस निलंबित कर दिये थे, जिला पुलिस अधीक्षक बीकानेर के पास पहुंची आदेश की प्रति में लाइसेंस निलम्बित करने का आधार बीकानेर क्षेत्र में लाइसेंस धारकों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज होना और लाइसेंस के मापदंड पर खरे नहीं उतरना बताया गया है। निलम्बित किए गए लाइसेंस धारक मूलत: बीकानेर के निवासी हैं और दीमापुर से लाइसेंस बनवा रखे थे। इनमें बीकानेर के कुछ अपराधिक मामलों में नामजद लोगों के पास नागालैंड से जारी ऑल इंडिया लेवल के आम्र्स लाइसेंस का पता चला था।

बता दें कि इससे पहले केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने भी अवैध हथियार लाइसेंस के मामले में कड़ा रुख दिखा था। मंत्रालय ने इस संबंध में राज्य सरकार को कड़े निर्देश दिए थे। इसके बाद प्रदेश के कई जिलों में गिरफ्तारियों का सिलसिला शुरू भी हो गया था, लेकिन बीकानेर में पुलिस अब इनकी धरपकड़ में जुटी है।

फर्जी हथियार लाइसेंस मामले में केन्द्र सख्त, होंगी गिरफ्तारियां