बीकानेर रेलवे चाइल्ड लाइन ने बाल श्रम में लिप्त चार नाबालिग बच्चों को रेस्क्यू कर आश्रय दिलाया

बीकानेर Abhayindia.com बीकानेर रेलवे चाइल्ड लाइन ने आज बाल श्रम में लिप्त चार नाबालिग बच्चों को रेस्क्यू कर आश्रय दिलाया।

बीकानेर रेलवे कार्यालय के इस्माइल दाऊदी ने बताया कि आज रेलवे चाइल्ड लाइन टीम द्वारा बाल संरक्षण अभियान के अंतर्गत बीकानेर रेलवे स्टेशन व उसके आसपास में गश्त के दौरान कचरा बीन कर बाल मजदूरी करते हुए चार नाबालिग बालक अजहर उम्र करीब 15 वर्ष, सरफराज उम्र करीब 10 वर्ष, नाजिर उम्र करीब 12 वर्ष व अब्दुल जिसकी उम्र करीब 9 वर्ष को, रेस्क्यू कर रेलवे स्टेशन चाइल्ड लाइन कार्यालय लाया गया। जहां पर काउंसलर प्रवीण चौहान द्वारा बच्चों से पूछताछ एवं काउंसलिंग करने पर सभी चारों बच्चों ने स्वयं को बिहार हाल निवासी बीकानेर का होना बताया। सभी चारों बच्चों को रेलवे चाइल्ड लाइन टीम द्वारा बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश करने पर, बाल कल्याण समिति अध्यक्ष किरण सिंह तंवर के आदेश पर उनके परिजन मिलने तक अस्थाई आश्रय के आदेश दिए जिस पर, चारों बच्चों को इस्माइल दाऊदी व विशाल सैनी द्वारा बीकानेर किशोर गृह में अस्थाई आश्रय दिलवाया गया।

बीकानेर रेलवे लाइन के इस्माइल दाऊदी द्वारा बताया गया कि दो बालक अजहर व सरफराज की फैमिली को ट्रेस कर सूचना कर दी गई है जल्दी ही दोनों बच्चों को परिजनों के सुपुर्द करवाने का प्रयास किया जाएगा तथा शेष दो बालक नाजिर वह अब्दुल जो कि रानी बाजार इंडस्ट्रीज एरिया बीकानेर की रोड नंबर 8 या उसके आसपास के क्षेत्र के रहने वाले बताए जा रहे हैं, जल्द ही उनके परिवार का भी पता लगाकर उनसे मिलवाने का प्रयास करेंगे। रेलवे चाइल्ड लाइन के इस्माइल दाऊदी द्वारा बताया गया कि आज की इस कार्रवाई में बीकानेर रेलवे चाइल्ड लाइन टीम सदस्य विशाल सैनी, मुकेश राजपुरोहित, ओम प्रकाश रामावत व वाॉलियटर लक्ष्मी नारायण स्वामी की विशेष भूमिका रही।