Thursday, July 18, 2024
Hometrendingलोकसभा अध्‍यक्ष के लिए नहीं बनी सहमति, ओम बिड़ला और के. सुरेश...

लोकसभा अध्‍यक्ष के लिए नहीं बनी सहमति, ओम बिड़ला और के. सुरेश होंगे उम्‍मीदवार

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

नई दिल्‍ली Abhayindia.com लोकसभा अध्यक्ष के लिए पक्ष व विपक्ष में सहमति नहीं बन पाई है। लिहाजा इसके लिए एनडीए ने ओम बिड़ला को दोबारा अपना प्रत्‍याशी बनाया है। वहीं, विपक्ष से के. सुरेश लोकसभा अध्‍यक्ष पद के उम्मीदवार होंगे।

आपको बता दें कि सत्तारूढ़ भाजपा ने सहयोगी दलों के साथ विचार-विमर्श के बाद लोकसभा के नए अध्यक्ष का नाम फाइनल कर दिया। सरकार की तरफ से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और संसदीय कार्य मंत्री किरेन रिजिजू ने स्पीकर के पद पर सर्वसम्मति बनाने के लिए विपक्षी दलों से बातचीत की। वहीं मंगलवार को लोकसभा की कार्यवाही शुरू होने से पहले ओम बिरला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। संसद भवन स्थित प्रधानमंत्री कार्यालय में यह मुलाकात हुई।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कार्यालय में ओम बिड़ला, अमित शाह और जेपी नड्डा के साथ उच्चस्तरीय बैठक भी की। बताया जा रहा है कि एनडीए के घटक दलों की बैठक होगी जिसमें लोकसभा के नए अध्यक्ष के नामांकन पत्र को भरने की औपचारिक प्रक्रिया पूरी की जाएगी। हालांकि लोकसभा के डिप्टी स्पीकर के पद को लेकर विपक्षी दलों के साथ सरकार की बातचीत अभी जारी है। लोकसभा स्पीकर पद को लेकर सहमित न बन पाने के बाद विपक्ष ने अपने उम्मीदवार का ऐलान कर दिया है। के सुरेश विपक्ष के स्पीकर पद के उम्मीदवार होंगे।

आपको बता दें कि ओम बिड़ला दूसरी बार स्पीकर बनने के साथ ही ऐसे तीसरे व्यक्ति बन जाएंगे, जो लगातार दूसरी बार चुने गए हैं। उनसे पहले बलराम जाखड़ कुल 9 सालों तक स्पीकर रहे हैं। उनसे पहले 1970 से 1975 के दौरान गुरदयाल सिंह ढिल्लो लगातार 6 सालों तक लोकसभा के स्पीकर रहे थे। हालांकि अभी तक किसी भी स्पीकर का 10 साल का कार्यकाल पूरा नहीं हुआ। पहले कार्यकाल के दौरान, उन्होंने संसदीय कार्यवाही के सुचारू संचालन और विभिन्न विधेयकों के पारित होने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके नेतृत्व में लोकसभा की कार्यवाही अधिक व्यवस्थित और पारदर्शी हुई।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad
Ad
- Advertisment -

Most Popular