‘अग्नि परीक्षा’ में पास हुई मोदी सरकार, पक्ष में पड़े महज 126 वोट

458
Primeminister Narendra Modi file photo
Primeminister Narendra Modi file photo

नई दिल्ली। केन्द्र की मोदी सरकार संसद में विपक्ष की तरफ से पेश किए गए अविश्वास प्रस्ताव की अग्नि परीक्षा में पास हो गई है। प्रस्ताव के लिए कुल 451 वोट डाले गए। इसमें से इस प्रस्ताव के पक्ष में सिर्फ 126 वोट, जबकि विरोध में 325 वोट पड़े। इससे पहले पीएम नरेंद्र मोदी दिन भर हुई बहस के बाद सदन में अपना पक्ष रखा। इस दौरान प्रधानमंत्री विपक्ष के तमाम आरोपों का एक-एक कर जवाब दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन का अंत विपक्ष को 2024 में भी उनकी सरकार के खिलाफ फिर से अविश्वास प्रस्ताव लाने का न्योता तक दे दिया।

पीएम मोदी ने सदन में कहा कि सड़क निर्माण के क्षेत्र में, गांवों को जोडऩे और रेलवे का रिकॉर्ड गति से विकास हो रहा है। गरीबों और मध्यवर्गीय लोगों के जीवन में बदलाव आ रहा है। पांच हजार से ज्यादा लोगों ने नई कंपनियां शुरू की। उन्होंने कहा कि सरकार देश की बहू-बेटियों के साथ ज्यादती करने वालों के खिलाफ कठोर कानून लेकर आई है। सरकार मुस्लिम बहनों से साथ खड़ी है।

उन्होंने किसी भी तरह की हिंसा की आलोचना करते हुए कहा कि किसी भी तरह की हिंसा देश के लिए शर्म की बात है। पीएम मोदी ने कहा कि मैं राज्य सरकारों से दरख्वास्त करता हूं कि वह हिंसा फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करें। 2014 में एनडीए सरकार न बनती तो देश मुश्किल में फंस जाता। उन्होंने एनपीए पर बोलते हुए कहा कि हमारी सरकार ने 12 बड़े मामलों में 45 फीसदी रिकवरी की। तीन बड़े मामलों में 55 फीसदी रिकवरी की, जबकि कांग्रेस 32 बिलियन डॉलर का कर्ज छोड़कर गई थी।

पीएम मोदी ने कहा कि अहंकार के कारण जीएसटी पर कांग्रेस पार्टी राज्यों की सुनने को तैयार नहीं थी। सालों से रुके जीएसटी और वन रैंक वन पेंशन हम लेकर आए। किसानों से किए अपने वादे को भी हमने पूरा किया और अब उन्हें अपनी लागत का डेढ़ गुना एमएसपी मिल रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अर्थव्यवस्था को खोखला किया। कांग्रेस ने 2009 से 2014 तक बैंकों को लूटा। यूपीए सरकार के दौरान एनपीए का जाल फैला। कांग्रेस ने फोन कॉल पर लोन दे कर देश को खोखला किया। जब लोन चुकाने का वक्त आया तो दूसरा लोन दे दिया। कई बार इक्विटी के बदले भी लोन दे दिया गया।