Sunday, March 3, 2024
Homeबीकानेर550 वर्षो से निभा रहे परंपरा, धधकते अंगारों पर थिरके तो देखते...

550 वर्षो से निभा रहे परंपरा, धधकते अंगारों पर थिरके तो देखते रह गए सब…

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad
बीकानेर में विश्व प्रसिद्ध अग्नि नृत्य
बीकानेर में विश्व प्रसिद्ध अग्नि नृत्य

सोहनलाल सारस्वत/हेमेरां/बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। कालदे माताजी मंदिर में विश्व प्रसिद्ध अग्नि नृत्य का आयोजन किया गया। इसमें 550 वर्षो से अधिक समय से चली आ रही परम्परा का निर्वहन करते हुए धधकते अंगारों पर जसनाथ सम्प्रदाय के अनुयायियों ने अग्नि नृत्य किया, जिसे देखकर हर कोई अचंभित रह गया। इस दौरान शब्द वाणी व जसनाथजी महाराज व कालदे माता की गाथा सुनाई गई।

इसके साथ ही जसनाथ सम्प्रदाय के 5 दिवसीय आसोज कतरियासर मेले का शुभारंभ हो गया है। मेले में श्रद्धालुओं ने सती माता कालदे मन्दिर में नारियल खोपरा व मिश्री मेवा के प्रसाद का भोग लगा कर अमन चैन व सुख-समृद्धि की कामना की। अलसुबह सती माता मंदिर महंत मोहननाथ ज्याणी ने मंदिर में ज्योत प्रज्वलित की। इस अवसर पर हवन का आयोजन किया गया। इसमें घृत व खोपरो की आहुति दी गई। वहीं अलसुबह आरती के समय मंदिर में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। मेले में शिरकत करने के लिए आसपास सहित बाड़मेर, जैसलमेर, हरियाणा सहित अन्य जगहों से भी जसनाथ सम्प्रदाय के अनुयायी पहुंचे हैं। बड़ी संख्या में पैदल यात्रियों के जत्थे भी पहुंच रहे हैं।

परम्परागत घी-खीचड़ा का प्रसाद वितरित

मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए सती माता मंदिर महंत मोहननाथ ज्याणी ने परपंरागत घी-खीचड़ा व कड़ी के प्रसाद का वितरण किया गया। मेले के आसपास प्रसाद, मिठाई व खिलौनों की दुकानों पर दिन भर चहल-पहल रही।

बीकानेर की राजनीति : बगावत का खतरा भांप चुकी है भाजपा-कांग्रेस

…इसलिए दो दिवसीय दौरे पर बीकानेर आएंगे गृहमंत्री राजनाथ सिंह

Ad Ad Ad Ad Ad
Ad
- Advertisment -

Most Popular