Thursday, May 23, 2024
Hometrendingतम्बाकू में होते हैं 4,000 से अधिक खतरनाक रसायन

तम्बाकू में होते हैं 4,000 से अधिक खतरनाक रसायन

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

बीकानेर Abhayindia.com विश्व तम्बाकू निषेध दिवस 31 मई को लेकर स्वास्थ्य विभाग सप्ताह भर संगोष्ठी और रैलियों का आयोजन कर आमजन को तम्बाकू के दुष्प्रभावों के प्रति जागृत करेगा वही कोटपा एक्ट 2003 के तहत सघन चालानिंग करके उल्लंघनकर्ताओं को सख्त संदेश भी देगा। शुक्रवार को स्वास्थ्य भवन सभागार में मीडिया प्रतिनिधियों के साथ आयोजित प्रेस वार्ता में कार्यवाहक सीएमएचओ डॉ लोकेश गुप्ता ने बताया कि संभागीय आयुक्त डॉ नीरज के पवन के नेतृत्व में बीकानेर जिले में पूरे मई माह को तंबाकू निषेध माह के रूप में मनाया जा रहा है और आगामी पूरे सप्ताह भर में तंबाकू के विरुद्ध एक जन आंदोलन खड़ा करने का प्रयास किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि जिला कलेक्टर भगवती प्रसाद कलाल की अध्यक्षता में विभिन्न स्टेक होल्डर्स की बैठक तथा अंतर विभागीय समन्वय समिति की बैठक कर अभियान को क्रियान्वित किया जा रहा है। जिले के प्रत्येक स्वास्थ्य केंद्र ही नहीं प्रत्येक सरकारी व गैर सरकारी कार्यालय को तंबाकू मुक्त संस्थान बनाने हेतु कार्य योजना पर कार्य जारी है। प्रत्येक माह की अंतिम तिथि को तंबाकू निषेध दिवस के रूप में मनाते हुए सगन चालानिंग की जाएगी। मुख्य वक्ता जिला टीबी अधिकारी डॉ सी एस मोदी द्वारा तंबाकू के 30 प्रकार के सेवन द्वारा होने वाले विभिन्न रोगों तथा उसकी भयावह वस्तुस्थिति के बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने सभी प्रकार के तंबाकू को कैंसर का जनक बताया।

सहायक निदेशक सूचना एवं जनसंपर्क हरिशंकर आचार्य द्वारा तंबाकू की सामाजिक स्तर पर स्वीकार्यता पर चिंता व्यक्त की तथा सभ्य समाज में इस बुराई को दूर करने के लिए मीडिया जगत की अहम भूमिका को रेखांकित किया। जिला तंबाकू नियंत्रण इकाई के सलाहकार रविंद्र प्रताप सिंह राठौड़ ने बताया कि जिला, खण्ड तथा स्वास्थ्य केंद्र स्तर पर टीमें बनाकर निरीक्षण व चालानिंग की कार्यवाही की जा रही है। कोटपा एक्ट 2003 के तहत धारा 4, 6, 6 बी 7 के अंतर्गत सघन चालानिंग जारी है। इसे और बढ़ाया जाएगा। स्वयं तंबाकू विक्रेता संघ द्वारा 18 साल से कम आयु के बच्चों को तंबाकू ना बेचने संबंधी पहल की गई है। जिला आईईसी समन्वयक मालकोश आचार्य ने जानकारी दी कि जो भी व्यक्ति तंबाकू छोड़ना चाहते हैं वह राज्य सरकार की नि:शुल्क हेल्पलाइन 104 पर कॉल करके सहायता प्राप्त कर सकते हैं। इस अवसर पर तंबाकू नियंत्रण जिला इकाई के कमल पुरोहित, देवी दान सिंह चारण सहित मीडिया व प्रेस के प्रतिनिधि मौजूद रहे।

तम्बाकू सबसे बड़ी महामारी : जिला टीबी अधिकारी डॉ. सी.एस. मोदी ने बताया कि राजस्थान में प्रतिदिन लगभग 136 लोगों की मौत का कारण तम्बाकू है। इसे किसी महामारी से कम नहीं आंक सकते। तंबाकू चबाने से मुंह, गला, अमाशय, यकृत और फेफड़े के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान की रिपोर्ट के अनुसार पुरुषों में 48 प्रतिशत और स्त्रियों में 25 प्रतिशत कैंसर की वजह तम्बाकू सेवन है। इनमें से 90 प्रतिशत में मुंह का कैंसर हैं। धुआं रहित तम्बाकू में 4 हजार से अधिक रसायनिक यौगिक हैं, इनमें से 29 रसायन कैंसर पैदा कर सकते हैं। मुंह के कैंसर के रोगियों की सर्वाधिक संख्या भारत में है। उन्होने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार तम्बाकू के कारण देश में 1 लाख करोड़ एवं राजस्थान में 1160 करोड़ रूपये का नुकसान होता है।

राज्यस्तरीय समारोह जयपुर में : विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर राज्यस्तरीय समारोह का आयोजन जयपुर के राजस्थान इंटरनेशनल सेंटर ऑडिटोरियम में आयोजित किया जाएगा जिसमें बीकानेर से डिप्टी सीएमएचओ, सीएचओ, एटीएस, आयुष चिकित्सक, जिला तंबाकू नियंत्रण इकाई सहित 25 सदस्यों का दल शिरकत करेगा।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad
Ad
- Advertisment -

Most Popular