बिजली पोल के लिए खोद रहे थे गड्ढ़ा, मिल गया मुगलकालीन खजाना

अभय इंडिया डेस्क. विकासखण्ड के ग्राम भोथली में ग्रामीणों को एक तांबे के पात्र में 200 प्राचीन सिक्के मिले। ग्रामीणों ने सभी सिक्के को तांबे के पात्र के साथ मंगलवार को कलेक्टोरेट में आयोजित जनदर्शन में जिला प्रशासन को सौंप दिया।
पुरातत्व विभाग ने प्रथम दृष्टया इन सिक्के को मुगलकालीन और करीब पांच सौ साल पुराना होना बताया है। यह पहला मौका है कि मुगलकालीन प्राचीन सिक्के इतनी बड़ी मात्रा में मिला है। इससे तरीघाट बड़ा व्यापारिक केन्द्र होने के पुरातत्व विभाग का दावा और मजबूत हो गया है।

ग्राम पंचायत भोथली के सरपंच गंगा प्रसाद निषाद ने बताया कि सोमवार को गांव में बिजली का पोल लगाने के लिए मजदूरों द्वारा खुदाई की जा रही थी। इस दौरान ही मजदूरों को तांबे के छोटे पात्र में प्राचीन सिक्का मिला। प्रथम दृष्टया देखने से सभी सिक्के चांदी का प्रतीत हुआ। ग्रामीणों को इसकी जानकारी हुई तो सिक्के को निकालकर सरपंच को सौंपा गया। ग्रामीणों ने बैठक कर निर्णय लिया कि सभी सिक्के जिला प्रशासन को सौंप दिया जाए। आज सुबह करीब 11 बजे सरपंच गंगा प्रसाद निषाद के साथ ग्रामीण कलेक्टोरेट पहुंचे और जनदर्शन में प्रशासन को सभी सिक्के पात्र के साथ सौंप दिया।