Sunday, March 3, 2024
Hometrendingबीकानेर में अंतरराष्‍ट्रीय ऊंट उत्‍सव 11 से, अबकी बार ऊंटों के साथ...

बीकानेर में अंतरराष्‍ट्रीय ऊंट उत्‍सव 11 से, अबकी बार ऊंटों के साथ घोड़े भी दौड़ेंगे

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

बीकानेर Abhayindia.com अन्तरराष्ट्रीय ऊँट उत्सव का आयोजन 11 से 14 जनवरी तक किया जाएगा। जिला कलक्टर भगवती प्रसाद कलाल ने मंगलवार कलेक्ट्रेट सभागार में इस संबंध में आयोजित बैठक में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आगामी अंतराष्ट्रीय ऊंट उत्सव- आइकंस ऑफ़ बीकानेर की थीम पर आयोजित किया जाएगा। इसमें स्थानीय कला, संगीत और संस्कृति में विशेष उपलब्धियां हासिल करने वाले कलाकारों को इस उत्सव के माध्यम से एक वैश्विक मंच उपलब्ध करवाया जाएगा।

जिला कलेक्टर भगवती प्रसाद कलाल ने बताया कि ऊंट उत्सव में 11 जनवरी को क्लासिकल फॉर्म्स ऑफ़ आर्ट्स के संबंध में विशेष आयोजन किया जाएगा, इस दौरान शास्त्रीय संगीत व शास्त्रीय नृत्य से जुड़े कलाकारों द्वारा विशेष प्रस्तुतियां दी जाएंगी। उत्सव के दौरान 12 जनवरी को धरणीधर स्टेडियम में कला व संस्कृति का फ्यूजन शो का आयोजन किया जाएगा जिसमें स्थानीय लोक कला संस्कृति के रंगों के साथ-साथ कंटेंपरेरी आर्ट भी जोड़ कर वो आयोजित होगा। स्थानीय व्यंजन भी इस शो के आकर्षण रहेंगे।

ऊंटों के साथ घोड़े भी दौड़ेंगे : सहायक निदेशक पर्यटन कृष्ण कुमार ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय ऊंट उत्सव के दौरान रायसर में सेलिब्रिटी नाइट आयोजित की जाएगी। जिसमें अग्नि नृत्य के साथ-साथ एक विशेष सेलिब्रिटी को प्रस्तुति हेतु आमंत्रित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि रायसर के धोरों में घुड़दौड़ और घोड़ों के नृत्य भी इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय ऊंट उत्सव में आकर्षण के विशेष केंद्र होंगे। कैमल फार्म में प्रतिवर्ष की भांति ऊंट दौड़ आयोजित होगी। कैमल फार्म में ऊंट श्रृंगार प्रतियोगिता ऊंट दौड़ प्रतियोगिता ऊंट डांस प्रतियोगिता एवं ऊंट पर कटिंग प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएगी।

बैठक में जिला कलक्टर भगवती प्रसाद कलाल ने कहा कि ऊँट उत्सव में देशी-विदेशी पर्यटकों की अधिक से अधिक भागीदारी रहे, इसके लिए प्लानिंग करते हुए तैयारियां समय पर करें और प्रचार प्रसार पर विशेष ध्यान दिया जाए।पर्यटन विभाग वेबसाईट, समस्त होटल वेबसाईट्स एवं सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचार प्रसार किया जाए।

उन्होंने सार्वजनिक निर्माण विभाग को हेरिटेज रूट कि सड़कों, रायसर रोड़ एवं मुख्य मार्गों सहित स्ट्रीट लाइट को दुरुस्त करने के निर्देश दिए। उन्होंने पर्यटन विभाग को ऊँट दौड़ तथा हॉर्स रेसिंग प्रतियोगिता के लिए राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केन्द्र एवं राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र में व्यवस्थाओं का जायजा लेने के निर्देश दिए। जिला कलेक्टर ने बताया कि कैमल फेस्टिवल के दौरान काइट फ्लाइंग कंपटीशन का आयोजन भी किया जाएगा।

जिला कलक्टर ने ऊंट उत्सव के दौरान होने वाली विभिन्न प्रतियोगिताओं को भी आकर्षक रूप देने के निर्देश दिए।उन्होंने बताया कि मेले के दौरान प्रतिदिन शहरी परकोटे में पैदल वॉक और तांगा राइड, हवेली संगीत और अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होंगे। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को समस्त कार्यक्रमों का जायजा लेने तथा इससे जुड़े समस्त तैयारियों प्रारंभ करने के निर्देश दिए।

ये रहे मौजूद : बैठक में राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केन्द्र निदेशक डॉ. अंर्तबंधु साहू, पर्यटन विभाग के उप निदेशक अनिल राठौड़, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (नगर) दीपक कुमार शर्मा, जिला उद्योग एवं वाणिज्य केंद्र उपायुक्त सुरेंद्र कुमार, सहायक निदेशक पर्यटन कृष्ण कुमार, जिला पर्यटन अधिकारी पवन शर्मा, पर्यटन विकास समिति के सदस्य गोपाल बिस्सा सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Ad Ad Ad Ad Ad
Ad
- Advertisment -

Most Popular