…तो संगठन में काम करने वालों को भूलनी होगी टिकट की दावेदारी!

337

जयपुर (अभय इंडिया न्यूज)। भारतीय जनता पार्टी के संगठन स्तर स्तर पर काम करने वाले नेताओं को आगामी विधानसभा चुनाव में टिकट की दावेदारी भूलनी होगी। पार्टी ने यह तय किया है कि संगठन में काम करने वालों को चुनावी समर में नहीं उतारा जाएगा। यानि वे टिकट के चक्कर में समय बर्बाद न करें।

पार्टी ने ऐसे नेताओं को आश्वस्त भी किया है। संगठन में काम करने वालों को सरकार बनने के बाद ही कोई नई जिम्मेदारी दी जा सकती है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि संगठन में काम करते हुए चुनाव लडऩे की इच्छा के चलते संगठन प्रभारी, जिलाध्यक्ष, प्रदेश पदाधिकारी संगठन के काम में ज्यादा ध्यान नहीं दे पाते।

ये नेता होंगे प्रभावित

भाजपा की वर्तमान प्रदेश टीम में शामिल अभिषेक मटोरिया वर्तमान में विधायक के साथ संगठन में प्रदेश महामंत्री भी हैं। प्रदेश उपाध्यक्ष पद पर रामनारायण डूडी, ओम बिड़ला, निहालचंद सांसद हैं, जबकि अलका गुर्जर विधायक हैं। प्रदेश मंत्री दीया कुमारी सवाईमाधोपुर से विधायक हैं। किसान मोर्चा के अध्यक्ष कैलाश चौधरी भी विधायक हैं। संकेत यह भी है कि इनमें से ज्यादातर को संगठन से बाहर कर चुनाव की तैयारी में भेजा जा सकता है।

यात्रा के लिए सीएम ने बुलाई बैठक

पार्टी सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की चार अगस्त से शुरू होने वाली सुराज गौरव यात्रा की तैयारियों को लेकर पार्टी ने 25 जुलाई को प्रदेश भाजपा कार्यालय में बैठक बुलाई है। इसमें विधानसभा वार यात्रा प्रमुख और जिलेवार यात्रा प्रमुखों को भी बुलाया गया है। बैठक में प्रदेश पदाधिकारियों सहित लगभग दो सौ से ज्यादा भाजपा नेता शामिल हो सकते हैं।

प्रदेशाध्यक्ष सैनी से मिले विधायक जोशी संग ‘उत्तराधिकारी’!