… तो खादी के उत्पाद भी अब मिलने लगेंगे ऑनलाइन

330
बीकानेर में सोमवार को खादी समिति के कार्यक्रम में शिरकत करने आए राजस्थान खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष जसवंत सिंह विश्नोई।
बीकानेर में सोमवार को खादी समिति के कार्यक्रम में शिरकत करने आए राजस्थान खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष जसवंत सिंह विश्नोई।

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। राजस्थान खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष जसवंत सिंह विश्नोई ने कहा कि खादी के उत्पादों की ऑनलाइन बिक्री की योजना तैयार की जा रही है। इससे खादी का उत्पादन बढ़ेगा तथा नई पीढ़ी तक खादी की पहुंच हो पाएगी। बीकानेर ने ऊनी खादी के उत्पादन में विशेष पहचान बनाई है, अब सूती खादी में भी जिला नई सफलता हासिल करेगा।

बिश्नोई ने यह जानकारी सोमवार को बीकानेर विशुद्ध खादी ग्रामोद्योग समिति के सिल्वर जुबली वर्ष समारोह में दी। इससे पहले उन्होंने समिति के नवीनीकृत भवन का उद्घाटन किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि आजादी से पहले खादी का अत्यधिक महत्व था। महात्मा गांधी ने खादी को घर-घर पहुंचाने का सपना देखा, लेकिन इस दौरान अनेक बहुराष्ट्रीय कंपनियां आई और आमजन, खासकर युवा खादी से दूर होने लगे।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की सोच है कि खादी एक बार फिर आमजन तक पहुंचे। इसके लिए खादी में अनेक नवाचार हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज के दौर में खादी पर अनेक संकट हैं, इन्हें दूर करना हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है। विश्नोई ने कहा कि देश के समस्त पेट्रोल पम्पों पर कार्यरत कर्मचारी खादी के कपड़े पहने, इसके प्रस्ताव गत दिनों केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री को भिजवाए गए हैं। इसी प्रकार नरेगा को खादी से जोडऩे का सुझाव भी दिया गया है।

उन्होंने कहा कि बोर्ड द्वारा राज्य सरकार को प्रस्ताव भिजवाया गया है कि खादी से संबंधित स्किल डेवलपमेंट प्रशिक्षण खादी संस्थाओं के माध्यम से करवाए जाएं। यदि प्रत्येक संस्थान 50 युवाओं को प्रशिक्षण दे पाएगी तो प्रदेश की तीन सौ संस्थाओं के माध्यम से 15 हजार प्रशिक्षित युवा तैयार हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि बोर्ड कतिनों एवं बुनकरों के कल्याण के लिए भी प्रयासरत है।

खादी बोर्ड सचिव अल्पा चौधरी ने बोर्ड की विभिन्न योजनाओं के बारे में बताया। उन्होंने बोर्ड द्वारा भंडार नवीनीकरण के लिए अनुदान दिया जा रहा है तथा उपकरणों के लिए योजना संचालित है। इस मौके पर वरिष्ठ कांग्रेस नेता जनार्दन कल्ला ने कहा कि संस्था द्वारा 25 वर्षों तक सतत मेहनत करते हुए नए आयाम स्थापित किए हैं। उन्होंने कहा कि खादी महात्मा गांधी की परिकल्पना थी। इसने लाखों परिवारों को रोजगार प्रदान किया। बोर्ड की वित्तीय सलाहकार मंजू चाहर ने कहा कि आमजन खादी का अधिक से अधिक उपयोग करें तथा दूसरों को इसके लिए प्रेरित करें।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए इंदुभूषण गोयल ने कहा कि बीकानेर विशुद्ध खादी ग्रामोद्योग समिति ने शहरी परकोटे में खादी भंडार की परिकल्पना को साकार किया है। समारोह में खादी बोर्ड के डायरेक्टर बी. एल. मीना, सहायक निदेशक खादी शिशुपाल सिंह, संस्था अध्यक्ष सूरजनारायण, गोकुल जोशी, कमल कल्ला, हजारीमल देवड़ा, सीताराम गर्ग सहित अनेक लोग मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन ज्योति प्रकाश रंगा ने किया।