कटारिया से मारपीट के वायरल वीडियो से मचा हड़कंप

2251
वर्ष 2003 में तत्कालीन प्रतिपक्ष नेता गुलाबचंद कटारिया के साथ हुई मारपीट के वायरल वीडियो का फोटो।
वर्ष 2003 में तत्कालीन प्रतिपक्ष नेता गुलाबचंद कटारिया के साथ हुई मारपीट के वायरल वीडियो का फोटो।
वर्ष 2003 में कोलायत में हुई घटना में जख्मी हुए दीपक अरोड़ा।
वर्ष 2003 में कोलायत में हुई घटना में जख्मी हुए दीपक अरोड़ा।

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। वर्ष 2003 में कोलायत में हुई एक घटना को लेकर सोशल मीडिया में वायरल हुए वीडियो ने सियासी जगत में हड़कंप सा मचा दिया है। हालांकि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में इस घटनाक्रम का सीधे तौर पर कोई अर्थ नहीं निकल रहा, लेकिन इसे लेकर एकबारगी चर्चा का बाजार जरूर गरम हो चला है। घटनाक्रम के अनुसार वर्ष सितम्बर, 2003 में वरिष्ठ भाजपा नेता एवं वर्तमान में प्रदेश के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया बतौर प्रतिपक्ष नेता कोलायत में फैले मलेरिया रोग के संदर्भ में स्थिति का जायजा लेने पहुंचे थे। कोलायत के एक स्वास्थ्य केन्द्र में जैसे ही कटारिया अपने पार्टी पदाधिकारियों के साथ पहुंचे तो वहां कुछ युवकों ने सुनियोजित ढंग से कटारिया सहित उनके साथ मौजूद तत्कालीन भाजपा के शहर अध्यक्ष गोपाल गहलोत, दीपक अरोड़ा आदि पर हमला बोल दिया।

इस दौरान कटारिया सहित कई अन्य भाजपा नेताओं के चोटें भी आई। हमलावरों ने कटारिया की लाल बत्ती वाली कार में भी तोडफ़ोड़ कर डाली थी। लाल बत्ती भी टूट कर जमीन पर गिर पड़ी। बताया जाता है कि इस दौरान किसी ने चाकू से कटारिया और गोपाल गहलोत पर हमले का प्रयास किया, लेकिन उनके साथ खड़े दीपक अरोड़ा ने चाकू अपने हाथ में थाम लिया जिससे दीपक का हाथ जख्मी हो गया।

इस घटनाक्रम के चश्मदीद दीपक अरोड़ा ने ‘अभय इंडिया’ को बताया कि चाकू हाथ में थामने के कारण वो जख्मी हो गया। इसके बावजूद कुछ और लोग उस पर हमला करने की कोशिश कर रहे थे। इस पर उसने अपने बचाव के लिए नजदीक खड़े एक पुलिसकर्मी की बंदूक छीनने की कोशिश की तो किसी दूसरे पुलिसकर्मी ने उसके सिर पर अपनी बंदूक से चोट मार दी, उसके बाद वो बेहोश हो गए। दीपक ने बताया कि इस घटना के बाद भाजपा नेता गुलाबचंद कटारिया की रिपोर्ट पर हमलावरों के खिलाफ मामला भी दर्ज कराया गया था, लेकिन बाद में राजीनामा हो गया। वायरल हुए वीडियो में घटना के बाद कटारिया से पूछताछ करते वरिष्ठ पुलिस अधिकारी, तत्कालीन एडीएम एवं वर्तमान में नगर विकास न्यास के सचिव राकेश कुमार जायसवाल नजर आ रहे हैं।

गौरतलब है कि जब यह घटनाक्रम हुआ था तब कोलायत के विधायक देवीसिंह भाटी थे। बताया जाता है कि कटारिया पर हुए हमले की रिपोर्ट में उनसे जुड़े कार्यकर्ताओं के नाम सामने आए थे। हालांकि बाद में दोनों पक्षों में राजीनामा हो गया था। बहरहाल, वर्तमान में वायरल हुए इस वीडियो को लेकर सियासी जगत में कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। वीडियो वायरल के पीछे क्या मंशा रही है, इसका खुलासा फिलहाल नहीं हो सका है, लेकिन इसकी चर्चा राजनीतिक ही नहीं, बल्कि प्रशासनिक क्षेत्र में भी जोरों से चल रही है। सरकार की विभिन्न जांच एजेंसियां भी इस वायरल वीडियो के संबंध में तमाम जानकारियां जुटा रही है।

अरोड़ा ने फेसबुक पर लगाया वीडियो

कांग्रेस नेता दीपक अरोड़ा ने बताया कि उन्होंने ही पिछले दिनों यह वीडियो फेसबुक पर लगाया था। उसके बाद किसने इसे वायरल कर दिया मुझे पता नहीं। उधर, उदयपुर में भाजपा के एक स्थानीय पदाधिकारी ने वायरल वीडियो को लेकर उदयपुर के पुलिस अधीक्षक से कार्रवाई करने की मांग की है।