…इसलिए इन 35 दावेदारों पर मेहरबान है कांग्रेस, टिकट मिलना तय!

congress
congress

जयपुर (अभय इंडिया न्यूज)। प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस में 35 दावेदारों के टिकट लगभग तय माने जा रहे हैं। इनमें से 21 तो मौजूदा विधायक है। इनके अलावा पार्टी ने ऐसे 14 दावेदारों को भी टिकट देने का मन बना लिया है जो पिछले विधानसभा चुनाव में 5 हजार से कम वोटों के अंतराल से हार गए थे।

बता दें कि प्रदेश में पिछले चुनाव के दौरान कांग्रेस के खिलाफ एकतरफा माहौल के चलते केवल 21 प्रत्याशी ही चुनाव जीत पाए थे। आजादी के बाद कांग्रेस को पहली बार सबसे कम सीट मिल पाई थी। नरेंद्र मोदी लहर के चलते कांग्रेस के कई नेता 20 से 60 हजार के वोटों के अंतर से चुनाव हार गए थे। वर्ष 2013 के राजस्थान विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के नेता 14 सीटों पर 5 हजार से भी कम वोटों के हारे थे। इनमें कुशलगढ़, रामगढ़, अंता, निम्बाहेड़ा, लालसोट, डूंगरपुर, सागवाड़ा, करणपुर और सादुलशहर आदि सीटें शामिल हैं।

इनको मिली जीत

पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के 21 प्रत्याशी जीते थे। इनमें बानसूर से शकुतला रावत, बागीदौरा से महेन्द्रजीत मालविया, बाड़मेर से मेवाराम, डीग-कुम्हेर से विश्वेन्द्र सिंह, जहाजपुर से धीरज गुर्जर, कोलायत से भंवर सिंह, नोखा से रामेश्वर डूडी, हिण्डौली से अशोक चांदना, सरदार शहर से भंवरलाल शर्मा, बाड़ी से गिर्राज सिंह मलिंगा, राजखेड़ा से प्रद्युम्न सिंह, कोटपूतली से राजेन्द्र सिंह यादव, सांचौर से सुखराम विश्नोई, झुंझुंनूं से बृजेन्द्र सिंह ओला, सरदारपुरा से अशोक गहलोत, करौली से दर्शन सिंह, सपोटरा से रमेश मीणा, टोडाभीम से घनश्याम मेहर, दातारागढ़ से नारायण सिंह, लक्ष्मणगढ़ से गोविन्द सिंह डोटासरा और झाड़ौल से हीरालाल शामिल हैं।

बीकानेर : 4 सीटों पर घमासान, हाईकमान में फंसी टिकटें

सियासी हलचल : गुलाबी ठंड में भाटी-शेखावत में मिटी कुछ तल्खी…