…तो बीकानेर के कई चेहरे जाएंगे तीसरे मोर्चे की शरण में

बीकानेर/जयपुर (अभय इंडिया न्यूज)। विधानसभा चुनावों में कांग्रेस और भाजपा के टिकट वितरण से पहले ही अपने-अपने बागियों की आशंका से डरी-सहमी हुई है। ऐसे बागी तीसरे मोर्चे में जाकर पार्टियों के समीकरण बिगाड़ सकते है। भारत वाहिनी पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष घनश्याम तिवाड़ी ने साफ तौर पर कहा है कि प्रमुख दलों के टिकट से वंचित निष्ठावान कार्यकर्ताओं को उनकी पार्टी सहयोग करने को तैयार है। राजनीतिक सूत्रों की मानें तो बीकानेर जिले के ऐसे कई राजनीतिक चेहरे भी तीसरे मोर्चे के संपर्क में हैं, जिन्हें अपना टिकट कटने का डर सता रहा है। तीसरे मोर्चे ने पिछल चुनाव में भी प्रदेश की कई सीटों पर कांग्रेस और भाजपा को नुकसान पहुंचाया था।

आपको बता दें कि 2013 में किरोड़ीलाल मीणा अपने समर्थकों के साथ राजपा में शामिल हो गए थे। इसके बाद बड़ी पार्टियों में टिकट वितरण में असंतोष का फायदा उन्होंने उठाया और बागियों को राजपा से चुनाव लड़वा दिया। इससे कई सीटों पर कांग्रेस और भाजपा के राजनीतिक समीकरण गड़बड़ाए। हालांकि मोदी लहर के चलते भाजपा को अधिक नुकसान नहीं हुआ, पर कांग्रेस को इसकी तगड़ी कीमत चुकानी पड़ी। अब इसी तर्ज पर भारत वाहिनी पार्टी चल पड़ी है।

‘बॉस’ टिकट चयन कर रहे हैं

पार्टी प्रदेश अध्यक्ष घनश्याम तिवाड़ी ने कहा है वह बड़ी पार्टियों की सूची का इंतजार कर रहे है। दोनों पार्टियों में चार-पांच ‘बॉस’ टिकट चयन कर रहे हैं। इससे राजनीतिक अराजकता का माहौल है। पैसे, संसाधन और सिफारिश वालों को टिकट मिल रहा है। निष्ठावान पीछे रह जाएंगे, ऐसे नेताओं पर हमारा ध्यान है। राजपा ने 2013 के चुनाव में 134 उम्मीदवार उतारे थे। इनमें से चार ने जीत दर्ज की, जबकि करीब 20 अन्य स्थानों पर राजपा ने दोनों बड़े दलों को कड़ी टक्कर दी।

बागी जो हो गए राजपा के

2013 के चुनाव में भाजपा से बगावत कर राजपा से नवीन पिलानिया ने चुनाव लड़ा, आमेर से जीते। भाजपा के सतीश पूनिया दूसरे नंबर पर रहे। पीपल्दा से रामगोपाल का कांग्रेस ने टिकट काटा, वह राजपा में शामिल हुए। बांदीकुई से शैलेंद्र जोशी राजपा उम्मीदवार बने। भाजपा की अलका सिंह ने जोशी से यह चुनाव महज करीब पौने छह हजार वोटों से जीता। कांग्रेस के रामकिशोर सैनी तीसरे स्थान पर चले गए। भाजपा ने खानपुर से तत्कालीन विधायक अनिल जैन का टिकट काटा। जैन भी राजपा के साथ आ गए और 33 हजार से अधिक वोट लेकर तीसरे स्थान पर रहे।

9 तक फाइनल हो जाएंगे उम्मीदवारों के नाम, 11 से जारी होगी सूचियां

इस शहर का भी बदलेगा नाम, नया नाम होगा कर्णावती

गहलोत का हैरान करने वाला बयान, कहा-मेरे आलोचक को टिकट मिले तो…