शहनाज बनी पहली एमबीबीएस महिला सरपंच

554
Shahnaj
Shahnaj

जयपुर (अभय इंडिया न्यूज)। प्रदेश के भरतपुर जिले के मेवात में कांमा पंचायत की शहनाज एमबीबीएस की पढ़ाई करते हुए सरपंच चुनी गई है। शहनाज राजस्थान की संभवत: ऐसी पहली महिला सरपंच है जो एमबीबीएस करते हुए सरपंच बनी है। क्षेत्र के लोग तो दावा कर रहे हैं कि शहनाज राजस्थान ही नहीं, बल्कि पूरे देश में ऐसी पहली महिला सरपंच है, जिसने एमबीबीएस करते हुए राजनीति में आने का निर्णय किया है।

24 वर्षीय शहनाज की एमबीबीएस का चौथा साल है और वह इसी माह के अंत में गुरूग्राम के सिविल अस्पताल में अपनी इंटरशिप शुरू करेगी। वो भविष्य में हरियाणा अथवा राजस्थान के मेवात क्षेत्र में विधानसभा का चुनाव भी लडऩे का मूड बना चुकी है। शहनाज के नानाजी चौधरी तैयब हुसैन केबिनेट मंत्री रह चुके हैं। वे फरीदाबाद से दो बार सांसद रहे हैं। बता दें कि चौधरी तैयब हुसैन का हरियाणा ही नहीं, बल्कि राजस्थान और उत्तरप्रदेश में भी मेव समाज में काफी अच्छा प्रभाव रखते हैं। तैयब हुसैन की बेटी और शहनाज की मां जाहिदा भरतपुर जिले के कांमा विधानसभा क्षेत्र से एक बार विधायक रहते हुए तत्कालीन अशोक गहलोत सरकार में संसदीय सचिव रही हैं। पिता जलीस खान कामां पंचायत समिति के प्रधान रह चुके हैं।

जाहिदा ने बताया कि शहनाज का मानना है कि एमबीबीएस करने के बाद वह मेव समाज की लड़कियो में शिक्षा को लेकर काम करेगी। इसके लिए उसने अभी से योजना बनाना शुरू भी कर दिया। अपने राजनीति में आने के फैसले पर शहनाज का कहना है कि पिछले छह महीने में मेरी जिंदगी बिल्कुल बदल गई। मुझसे पहले मेरे दादाजी भी इसी गांव के सरपंच रह चुके थे, लेकिन वर्ष 2017 में किन्ही कारणों के चलते न्यायालय ने उनका निर्वाचन खारिज कर दिया था। इसके बाद गांव और परिवार में यह चर्चा शुरू हो गई कि किसे चुनाव लड़ाया जाए। इसी बीच मेरा नाम सामने आया गया। शहनाज बताती है कि राजस्थान में पंचायत का चुनाव लडऩे के लिए न्यूनतम 10वीं कक्षा पास होना आवश्यक होना भी मेरा राजनीति में आने का प्रमुख कारण रहा। शहनाज का कहना है कि मेरे सरपंच बनने से मेवात की लड़कियां शिक्षा को लेकर जागरूक होंगी। अभिभावक भी इस ओर ध्यान देंगे।