बीओबी की सेवाओं को सराहा, वरिष्ठजनों के लिए मांगी सुविधाएं

178
बैंक ऑफ बड़ौदा की स्थापना की पूर्व संध्या पर नत्थूसर गेट शाखा में ग्राहक सम्मेलन में ग्राहकों का अभिवादन करते उपमहाप्रबंधक पीयूष नाग।
बैंक ऑफ बड़ौदा की स्थापना की पूर्व संध्या पर नत्थूसर गेट शाखा में ग्राहक सम्मेलन में ग्राहकों का अभिवादन करते उपमहाप्रबंधक पीयूष नाग।

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। बैंक ऑफ बड़ौदा की स्थापना के 111वें वर्ष की पूर्व संध्या पर यहां नत्थूसर गेट के बाहर गोकुल सर्किल स्थित बैंक की शाखा में गुरुवार शाम ग्राहक सम्मेलन रखा गया। इस अवसर पर ग्राहकों ने शाखा की सेवाओं की सराहना करते हुए वरिष्ठ नागरिकों को दिए जाने वाली सुविधाओं में विस्तार करने की मांग उठाई।

बैंक ऑफ बड़ौदा की स्थापना की पूर्व संध्या पर नत्थूसर गेट शाखा में ग्राहक सम्मेलन को संबोधित करते शाखा प्रबंधक एम. सी. मुद्गल।
बैंक ऑफ बड़ौदा की स्थापना की पूर्व संध्या पर नत्थूसर गेट शाखा में ग्राहक सम्मेलन को संबोधित करते शाखा प्रबंधक एम. सी. मुद्गल।

सम्मेलन में बैंक के उपमहाप्रबंधक पीयूष नाग ने इस अवसर पर कहा कि ग्राहकों की ओर से आने वाले सुझावों को वे बैंक प्रबंधन तक पहुंचाएंगे। इससे पहले उन्होंने कहा कि बैंक ऑफ बड़ौदा की स्थापना वर्ष 1908 में गुजरात के बड़ौदा शहर से हुई थी। तब से आज तक यह बैंक इसीलिए बुलंदियों को छू रहा है क्योंकि इसके साथ आप जैसे ग्राहक और साथी जुड़े हुए हैं। उपमहाप्रबंधक नाग ने बताया कि इस बैंक से ऋण पाकर कई लोगों ने अपने व्यापार का विकास किया है। उन्होंने उदाहरण बताते हुए कहा कि एक व्यक्ति ने दो दशक पहले बैंक से महज 25 हजार रुपए का ऋण लेकर छोटा सा रेस्टोरेंट खोला था। आज वो ही शख्स आठ करोड़ रुपए तक का ऋण लेने की हैसियत रखता है।

सम्मेलन में बैंक के शाखा प्रबंधक एम. सी. मुद्गल ने बताया कि नत्थूसर गेट शाखा की स्थापना 1993 में की गई थी। तब से जुड़े ग्राहक आज इस कार्यक्रम में शरीक हुए हैं, यह बहुत बड़ी खुशी की बात है। इनकी यह उपस्थिति यह दर्शाती है कि इनके साथ हमारा परिवार की तरह नाता जुड़ा हुआ है। कार्यक्रम में बैंक अधिकारी रोहित सोनी, एस. के. पारीक, रामदयाल बिश्नोई, निशांत मलिक आदि उपस्थित थे।

बैंक ऑफ बड़ौदा की स्थापना के 111वें वर्ष के उपलक्ष्य में शुक्रवार को वाहन रैली निकाली जाएगी तथा शाम को सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

सचिन के दौरे से कार्यकर्ताओं में जोश का संचार, नेताओं में गुटबाजी बरकरार