शहर हो या गांव, दूषित पेयजल आपूर्ति से उकता गए लोग

ये हैं पानी का नमूना।

संजय बोड़ा/बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। जिले में शहरी क्षेत्र हो या फिर ग्रामीण, सब जगह पेयजल आपूर्ति को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। खासतौर से दूषित पेयजल आपूर्ति ने तो लोगों का जीना मुश्किल कर दिया है। बीकानेर शहर में कई इलाकों में पिछले काफी दिनों से दूषित पेयजल आपूर्ति की शिकायतें आ रही हैं। इसी तरह कोलायत क्षेत्र में भी पेयजल को लेकर हालात बेहद खराब है।

डॉक्टर पर हमले के आरोपियों का लगा सुराग, ऐसे आएंगे गिरफ्त में…

कोलायत के निकटवर्ती गांवों में हीराई ढाणी में बने पंपिंग स्टेशन से नहरी पेयजल की आपूर्ति होती है। क्षेत्र के लोगों का कहना है कि पिछले कई दिनों से इस पंप से जुड़े गांव नोखड़ा, नयागांव, रानेरी, छनेरी, टोकला, भाणेका गांव, दियातरा में दूषित पेयजल की आपूर्ति हो रही है। इससे लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। पूर्व पंचायत समिति सदस्य एवं भाजपा नेता डूंगर सिंह भाटी ने ‘अभय इंडिया’ को बताया कि दूषित पेयजल आपूर्ति की शिकायत करने के बावजूद भी कोई सुनवाई नहीं हुई है। भाटी ने बताया कि बुधवार को भी उन्होंने इस ंसंबंध में विभाग के एक्सईएन और एईएन से बातचीत की है।

इधर, नहरी पानी नहीं मिलने के कारण गुस्साएं किसानों आज कलेक्ट्रेट परिसर में प्रदर्शन किया। किसानों ने बताया कि गोड़ू, गोगडिय़ाला, पूंगल के अंतिम छोर के किसानों को पानी नहीं मिल रहा है, जिससे किसानों की फसले खराब हो रही है। किसान नेता महावीर पुरोहित ने बताया कि नहर विभाग के कर्मचारी किसानों के साथ अन्याय कर रहे है। खरीब की फसलों को पानी नहीं मिल रहा है तो रबी की फसलों को कहां से पानी मिलेगा।

किसानों ने बताया कि पूंगल ब्रांच के 17 सिस्टम में बीएलडी, डीएलडी व डीबीडी सारे टूट गए है और एक्सईएन कहता है कि हमारे बस की बात नहीं सरकार से बात करो। किसानों ने ऐेसे जिम्मेदार कर्मचारियों पर कार्यवाही की मांग की। साथ ही किसानों ने बताया कि जंगली सूअर जो फसलों को खराब कर रहे है। उन पर कार्यवाही करने की मांग की। यदि सरकार उनको रोकने के लिए कोई प्रबंध नहीं किया तो भारी नुकसान होगा।

नकली घी के कारोबार ने पकड़ी दुगुनी रफ्तार, सिस्टम मूकदर्शक