मिश्रित फलदायी वर्ष, रियल स्टेट के लिए वरदान

216

भारतीय गणतन्त्र का 69वां वर्ष 26 जनवरी 2018 को सिंह लग्न में प्रवेशित हुआ है। तीसरे गुरू, चौथे मंगल और मुंथा, पाचवें बुद्ध शनि, छठे सूर्य शुक्र केतु, दशम में चन्द्रमा और बारहवे राहु स्थित है।
ग्रह योगानुसार यह वर्ष मिश्रित फलदायी है। देश में राजनीतिक अस्थिरता की स्थिति बनी रहेगी। सभी शीर्ष पार्टियों में अन्त:कलह, सत्ता पक्ष के लिए चुनौतीभरा समय साबित होगा। कई राज्यों के चुनाव सश्रा पक्ष के विरूद्ध जाने का योग है तथा कुछ राज्यों में सश्रा परिवर्तन होगा। पड़ौसी देशों की कुचालों के कारण छद्म युद्ध की स्थिति बनी रहेगी। वर्ष में शीर्ष नेताओं की क्षति का योग।
विदेशों में भारत की प्रतिष्ठा बढ़ेगी। रियल स्टेट के लिए यह वर्ष वरदान साबित होगा। विज्ञान के क्षेत्र में बड़ी उपलब्धि हासिल होगी। खेल जगत, युवा वर्ग के लिए यह वर्ष सुखदायी साबित होगा। आर्थिक सुधार के कार्यक्रमों का पुन: मुल्यांकन करना होगा क्योकि देश में नकली भारतीय मुद्रा बाजार में तेजी से पैर पसारेगी अत: आर्थिक स्थिति पर बुरा असर पड़ेगा। आम आदमी को आर्थिक संकट से गुजरना पड़ेगा। शेयर बाजार में बड़ा धोखा हो सकता है। व्यापारी वर्ग के लिए संघर्षदायी रहेगा। जीएसटी में बड़ा बदलाव आयेगा। रेल किराये में छद्म रूप से वृद्धि होगी तथा दर्जनों रेल दुर्घटनाओं का योग बन रहा है। जादुई आम बजट होगा जिसे आम आदमी को विशेष राहत नही मिलेगी। इनकम टैक्स में विशेष राहत का योग नहीं है तथा आम आदमी को टैक्स में लाने का प्रयास किया जायेगा।
मौसम के बदमिजाज के कारण भूंकम्प, भूस्खलन, बर्फबारी कही औसत से कम कही अतिवृष्टि से फसल का नुकसान होने का योग है जिसके कारण किसानों की परेशानियां बढ़ेगी। विदेश नीति में अच्छी सफलता का योग बन रहा है। विदेशी व्यापार बढ़ेगा साहित्य, कला, संस्कृति से जुड़े लोगों के लिए कष्टदायी है। आतंकवादी हमलों की आशंका। समुद्री मार्ग से ऐसी घटना घटने के योग। आगजनी की घटनाओं के कारण जान-माल की क्षति होगी। -पं. गिरवर प्रसाद बिस्सा, ज्योतिषाचार्य