…लो फिर जाग गया जिन्ना के नाम का जिन्न

jinnah
jinnah

जयपुर (अभय इंडिया न्यूज)। पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना को लेकर सियासी बयानबाजी का दौर एकबारगी फिर शुरू हो गया है। इस बार कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष नदीम जावेद के बयान से सियासी गर्माहट आई है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उन्होंने कहा कि जिन्ना खुद को मुसलमान कहते थे, लेकिन वे कर्म से मुसलमान नहीं थे।

उनके अनुसार जिन्ना दाढ़ी नहीं रखते थे और शराब पीते थे। जिन्ना कहते थे कि कुरान में इस्लाम के बारे में जो कुछ लिखा गया है वह जाहिल मुसलमानों को को डराने के लिए लिखा गया है। नदीम जावेद दो दिन पहले जयपुर में सामाजिक समरसता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। जानकारी के अनुसार जावेद धर्म के नाम पर पाकिस्तान बनने उसकी सफलता पर सवाल उठा रहे थे। इसी दौरान उन्होंने जिन्ना को लेकर टिप्पणी की। गौरतलब है कि उत्तरप्रदेश में पिछले दिनों जिन्ना प्रकरण पर खूब सियासत हुई। अब राजस्थान विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस नेता ने जिन्ना से जुड़ा मुद्दा उठाया है।

उन्होंने कहा कि जिन्ना ने अपने से 20 साल छोटी अपने दोस्त की बेटी से शादी की थी। जिन्ना ने धर्म के नाम पर इस देश में मूवमेंट खड़ा किया। हिंदुस्तान के दो टुकड़े हुए और पाकिस्तान बना। उन्होंने कहा कि 1947 में धर्म के नाम पर पाकिस्तान जरूर बन गया, लेकिन 1971 में भाषा के नाम पर पाकिस्तान के दो टुकड़े हो गए। इसलिए यह समझने की जरूरत है कि धर्म के नाम पर देश नहीं चल रहा है।